1857 का विद्रोह (Revolt of 1857) for Competitive Exams Part 7

Download PDF of This Page (Size: 165K)

विद्रोह की विफलता के कारण

1857 ई. के विद्रोह की विफलता के कई कारण थे, जिन्हें अग्रांकित बिन्दुओं के रूप में समझा जा सकता है-

  • अंग्रेजी सेना का अत्याधुनिक अस्त्र-शस्त्र में पूर्ण होना, इसके विपरीत भारतीय विद्रोही पारंपरिक अस्त्रों का प्रयोग करते रहे।

  • अंग्रेजों के पास बेहतर संचार सुविधाए एवं यातायात के साधन रहे।

  • भारतीय विप्लवी आपस में संगठित नहीं थे।

  • विप्लवियों को सिंधिया, निजाम एवं राजस्थान के बड़े राजाओं का सहयोग प्राप्त नहीं हुआ।

  • बहादुरशाह जफर स्वयं क्रांति के प्रति अत्यंत सजग एवं सक्रिय नहीं थे।

  • अवध के तालुकेदार एक समय के बाद कंपनी की घोषणाओं से संतुष्ट होकर शांत हो गए।

  • कैम्पवल, ह्ययुम, रोज, ओ नील जैसे सैनिक अधिकारियों ने विद्रोह को सफलता से दबा दिया।

  • नाना साहेब एवं बेगम हजरत महल का पलायन तथा झांसी की रानी एवं कुँवर सिंह की मृत्यु।

  • अवध एवं बिहार को छोड़कर जन समर्थन का अभाव।

  • सैनिकों में भी मूलत: अवध एवं बिहार के सिपाहियों ने भाग लिया। पंजाबी, गोरखा आदि अंग्रेजों के साथ रहे।