एनसीईआरटी कक्षा 6 इतिहास अध्याय 6: साम्राज्यों राजाओं और प्रारंभिक गणराज्य यूट्यूब व्याख्यान हैंडआउट्स for Competitive Exams

Doorsteptutor material for UGC is prepared by world's top subject experts: Get complete video lectures from top expert with unlimited validity: cover entire syllabus, expected topics, in full detail- anytime and anywhere & ask your doubts to top experts.

Get video tutorial on: Examrace Hindi Channel at YouTube

एनसीईआरटी कक्षा 6 इतिहास अध्याय 6: साम्राज्यों, राजाओं और प्रारंभिक गणराज्य

अश्वमेघ

Ashvamedha

वर्ण प्रथा- जन्म पर आधारित

  • ब्राह्मण
  • क्षत्रिय
  • वैश्य – किसान, चरवाहों और व्यापारियों
  • शूद्र – अछूत

कुछ राजाओंने इसे स्वीकार नहीं किया| वे खुद को पुजारियों से बेहतर मानते थे|

जनपद

  • जमीन जहां पर जन ने अपना पैर लगाया|
  • दिल्ही में पुराना किल्ला
  • हस्तिनापुरके पास मीरुत (उत्तर प्रदेश)
  • अतरंगीखेरा के पास एताह (उत्तर प्रदेश)

महाजनपद

  • राजधानी शहर जो कि मजबूत किया गया था (ईंट, लकड़ी और पत्थर की दीवार)
  • हमलों से बचाने के लिए किले, बहुत श्रम , संपत्ति दिखाई|
  • नए राजाओ के पास सेना थी -उनको नियमित तनखाह दी जाती थी|
  • पंच चिन्हित सिक्के
  • नियमित कर वसूल किया जाता था|
  • लकड़ी के बजाय लौह के हल का धार-फार का उपयोग किया जाता था।
  • धान आरोपित करना (ज्यादा उत्पादन) – ग़ुलाम (दासी) और भूमिहीन मजदूर (कर्मकार)

मगध- महाजनपद

  • गंगा और बेटा - परिवहन, पानी की आपूर्ति और उपजाऊ जमीन
  • जंगल – हाथी, घर और रथ बनाने के लिए लकड़ी
  • बिम्बिसार और अजातशत्रु और महापद्म नंदा
  • राजधानी – राजगृह (बिहार) से पाटलिपुत्र (पटना)
  • अलेक्सेंडर जैसा भी हो वो आगे नहीं बढ पाया क्योंकि उसकी सेना भारतीय शासकों से डर गई थी।

वजी

  • राजधानी – वैशाली (बिहार)
  • गण और संघ के रूप में सरकार
  • 1000 राजाओंने एकसाथ शासन किया – सभा मे मिले (उसमे महिलाओ, दास, और कर्मकरोंको आने की अनुमति नहीं थी)
  • बुद्ध और महावीर
  • शक्तिशाली राजऔने संघों को जीतने की कोशिश की – अंत में गुप्तो ने विजय प्राप्त की थी|

Developed by: