Public Administration 1: Embassies and High Commissioner՚s Office

Get top class preparation for CTET-Hindi/Paper-1 right from your home: get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of CTET-Hindi/Paper-1.

दूतावास एवं उच्चायोग कार्यालय (Embassies and High Commissioner՚s Office)

  • विदेशों में भारत सरकार के कार्यों को पूरा करने, वीजा प्रदान करने तथा समन्वयकारी कार्यों के लिए दूतावास (Embassy) तथा उच्चायोग (High Commission) कार्यालय बने हुए हैं। सामान्यत: किसी देश में दूसरे देश का राजनीतिक संबंध कार्यालय दूतावास कहलाता है किन्तु जब कार्यालय राष्ट्रमंडलीय (जो ब्रिटिश शासन से संबंधित रहे हैं) देशों में होता है तो उच्चायोग कहलाता है। तदनुसार इनके अधिकारी भी राजदूत (Ambassador) तथा उच्चायुक्त (High Commissioner) कहलाते हैं। इसी प्रकार विदेशों में वाणिज्यिक संबंधों के लिए कॉन्सुलेट्‌स (Consulates) अर्थात वाणिज्य दूतावास भी खोले जाते हैं।
  • भारतीय विदेश सेवा के अधिकारी इन कार्यालयों अर्थात मिशनों के प्रशासनिक कार्य निष्पादित करते हैं। ये मिशन दोनों देशों के बीच राजनीतिक तथा सांस्कृतिक संबंधी को प्रगाढ़ता प्रदान करने में निर्णायक सिद्ध होते हैं। विश्व के लगभग 161 स्थानों पर भारतीय दूतावास या मिशन कार्यरत है।

विदेश मंत्रालय निम्नांकित केन्द्रीय अधिनियम तथा नियमों के क्रियान्वयन के लिये अधिकृत है-

  • भारतीय तीर्थयात्री पोत नियम, 1933
  • भारतीय देशान्तरवास, अधिनियम, 1922
  • परस्परता (Reciprocity) अधिनियम, 1943
  • हज समिति अधिनियम 1959
  • प्रत्यर्पण अधिनियम, 1962

कार्य (Functions)

  • विदेश नीति को सशक्त बनाना और उसका बेहतर क्रियान्वयन करना विदेश मंत्रालय का प्रमुख कार्य है। देश की आर्थिक प्रगति पर ‘साप्ताहिक आर्थिक बुलेटिन’ जारी करना विदेश मंत्रालय का कार्य है।
  • वीरता और पासपोर्ट संबंधी प्रमुख कार्य विदेश मंत्रालय दव्ारा ही निष्पादित किये जाते हैं। वीरता एवं पासपोर्ट की वैधता व अवैधता के (नकली होने के) संबंध में विदेश मंत्रालय जांच एवं आवश्यक कार्यवाही के कदम उठाता है। निर्गमन (Migration) तथा आप्रवासन (Immigration) संबंधी नियमों का निर्धारण व क्रियान्वयन विदेश मंत्रालय दव्ारा किया जाता है।
  • प्रवास भारतीयों, भारतीय मूल के व्यक्तियों का श्रेणीकरण और उनके हितों की रक्षा हेतु विदेश मंत्रालय समुचित कदम उठाता है। वर्तमान में ‘आप्रवासी भारतीय मामलों का मंत्रालय’ अलग से गठित कर दिया गया है।
  • संयुक्त राष्ट्र संघ, राष्ट्रमंडल, सार्क, आसियान, गुटनिरपेक्ष आंदोलन, जी-15, जी-77 इत्यादि संगठनों में सक्रिय भागीदारिता निभाना और भारत का पक्ष स्पष्टता से रखना विदेश मंत्रालय का कार्य है।
  • जल, थल, नभ इत्यादि क्षेत्रों की सीमाओं का सीमांकन करना, विभिन्न देशों के साथ इस संबंध में उपयुक्त समझौते करना विदेश मंत्रालय का ही कार्य है।
  • वे भारतीय जो मक्का मदीना की हज यात्रा हेतु जाते हैं एवं कैलाश मानसरोवर की तीर्थयात्रा के लिये आवश्यक व्यवस्था एवं प्रबंध संबंधी कार्य करना विदेश मंत्रालय का दायित्व है।
  • भारतीय विदेश सेवा के अधिकारियों का प्रशिक्षण, पदस्थापना, पदोन्नति, पेंशन, स्थानांतरण संबंधी कार्य निर्वहन करता है।
  • विदेशों में स्थित मिशनों को सहायता देना और नये मिशनों की स्थापना करना विदेशों के साथ वाणिज्यिक संबंध स्थापित करना भी इसका कार्य है।
  • युद्ध के प्रारंभ व समाप्ति की घोषणा करना, अपहत व्यक्तियों की प्राप्ति एवं वापसी संबंधी कार्य विदेश मंत्रालय दव्ारा देखे जाते हैं।
  • विदेशी मुद्रा प्रबंधन कानून (FEMA) जो कि 31 मई, 2002 से लागू है, की क्रियान्विति विदेश मंत्रालय का प्रवर्तन निदेशालय करता है। इस कार्य को वित्त मंत्रालय के साथ मिलकर निष्पादित किया जाता है।

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय (Ministry of Health and Family Welfare)

परिवार कल्याण मंत्रालय में निम्नलिखित विभाग हैं, प्रत्येक का नेतृत्व सचिव, भारत सरकार दव्ारा किया जाता है-

  • स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय (Department of Health & Family Welfare)
  • आयुष विभाग (Department of Ayush)
  • स्वास्थ्य अनुसंधान विभाग (Department of Health Research)
  • एड्‌स नियंत्रण विभाग (Department of Aids Control)

स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय स्वास्थ्य तथा परिवार कल्याण का संबंद्ध कार्यालय है जिसके अधीनस्थ कार्यालय देश भर में फैले हुए हैं। डीजीएचएस सभी मेडिकल और विभिन्न स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े जन स्वास्थ्य मामलों के कार्यान्वयन पर तकनीकी सलाह प्रदान करते हैं।

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय- यह विभाग निम्नांकित प्रमुख राष्ट्रीय कार्यक्रमों का संचालन करता है-

  • राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन (NRHM) -12 अप्रैल, 2005 से प्रारंभ मिशन का जोर जल, सफाई, शिक्षा, पोषण, सामाजिक व लैंगिक समानता जैसे स्वास्थ्य के अनेक निर्धारकों के साथ-साथ कार्यवाही सुनिश्चित करने के लिये एक पूर्णरूपेण कार्यात्मक, सामुदायिक स्वामित्व वाली और सभी स्तरों पर अंतरक्षेत्रीय समय विकेंद्रित स्वास्थ्यप्रद प्रदाय प्रणाली स्थापित करने पर है।
  • राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य मिशन (NUHM) -इसका लक्ष्य शहरी जनसंख्या स्वास्थ्य आवश्यकताओं की देखभाल करना है। शहरी जनसंख्या के लोक स्वास्थ्य सुरक्षा सेवाओं की जरूरतों को पूरा करने के लिए शहरी क्षेत्रों में प्राथमिक, दव्तीयक तथा क्षेत्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा सेवा प्रदान करने वाली प्रणाली का उन्नयन/निर्माण/नवीकरण करना शामिल है।
  • मातृ स्वास्थ्य कार्यक्रम
    • जननी सुरक्षा योजना (12 अप्रैल, 2005)
    • जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम (1 जून, 2011)
  • बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम
  • रोग प्रतिरक्षण कार्य
    • पल्स पोलियो प्रतिरक्षण
    • कुष्ठ निवारण कार्यक्रम
    • तपेदिक नियंत्रण कार्यक्रम
  • स्वास्थ्य बीमा योजना
  • प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना- (मार्च 2006) आदि।

आयुष विभाग (Ayush Department)

इसके अंतर्गत आयुर्वेद योग और प्राकृतिक चिकित्सा, यूनानी सिद्ध और होम्योपैथिक प्रणाली में अनुसंधान एवं शिक्षा के विकास पर ध्यान देने की दृष्टि से प्रमुख कार्य व इकाइयों की स्थापना की जाती है।

अधीनस्थ कार्यालय (Subordinate Office)

  • भारतीय दवाओं के लिये फार्माकोपिएल प्रयोगशाला (PLIM)
  • होम्योपैथी फार्माकोपिएल प्रयोगशाला (HPL)
  • भारतीय दवाओं का फार्माकोपिया आयोग (PCIM)

सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रम (Public Sector Undertaking)

भारतीय दवा फार्मास्यूटिकल कॉरपोरेशन (IMPCL)

वैधानिक नियामकीय परिषद (Statutory Regulatory Council)

  • भारतीय दवाओं की राष्ट्रीय परिषद (CCIM) , नई दिल्ली
  • केन्द्रीय होम्योपैथी परिषद (CCAH) , नई दिल्ली

स्वास्थ्य अनुसंधान विभाग (Health Research Department)

इसके अंतर्गत आने वाले 5 शीर्ष अनुसंधान परिषद हैं-

  • राष्ट्रीय आयुवेदिक विज्ञान अनुसंधान परिषद
  • राष्ट्रीय सिद्धा विज्ञान अनुसंधान परिषद
  • राष्ट्रीय यूनानी दवा अनुसंधान परिषद
  • राष्ट्रीय होम्योपैथी अनुसंधान परिषद
  • राष्ट्रीय योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा अनुसंधान परिषद

एड्‌स नियंत्रण विभाग (AIDEs Control Department)

पहली बार 1992 में राष्ट्रीय एड्‌स नियंत्रण कार्यक्रम की शुरूआत हुई थी। इसका दव्तीय चरण 1999 एवं तृतीय चरण 2007 में प्रारंभ हुआ। इसके लिये जागरूकता फैलाने के लिए गैर सरकारी संगठनों का भी सहारा लिया जा रहा है। राष्ट्रीय राजनीतिक सूचना प्रबंधन प्रणाली को मजबूत करना इस विभाग का प्रमुख लक्ष्य है।

इसके अलावा अन्य संभाग हैं-

  • मानसिक स्वास्थ्य संभाग (Mental Health Division)
  • केन्द्रीय स्वास्थ्य सेवाएँ (Central Health Services)

Developed by: