Public Administration 1: Ministry of Home and External Affairs

Doorsteptutor material for CTET-Hindi/Paper-2 is prepared by world's top subject experts: get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of CTET-Hindi/Paper-2.

गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs)

कार्य (Functions)

जम्मू कश्मीर विभाग (Jammu Kashmir Department)

1 नवंबर, 1994 से सृजित यह विभाग जम्मू-कश्मीर राज्य से संबंधित संवैधानिक उपबंधों तथा अन्य मामलों को देखता है। जम्मू कश्मीर राज्य भारत का अभिन्न अंग है। भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 के अनुसार जम्मू-कश्मीर विशेष दर्जा प्राप्त राज्य है। भारत के सुदूर उत्तरी हिस्से में अवस्थित इस राज्य के 3 मुख्य क्षेत्र हैं-कश्मीर घाटी, जम्मू और लद्दाख। इन तीनों क्षेत्रों का क्षेत्रफल निम्न तालिका में दिया गया है-

तालिका

Functions of Ministry of Home Affairs
क्षेत्रक्षेत्रफल (प्रतिवर्ग मील)
कश्मीर घाटी

जम्मू क्षेत्र

लद्दाख क्षेत्र

8,639

12,378

33,554

कुल54,571
  • पाकिस्तान और चीन के गैर कानूनी कब्जे वाला क्षेत्र इसमें सम्मिलित नहीं हैं।
  • पाकिस्तान से कश्मीर की सीमा लगी होने के कारण एवं जम्मू कश्मीर को लेकर भारत-पाकिस्तान के मध्य के तनाव को देखते हुये यहाँ के लिये एक पृथक विभाग कार्यरत है। यह विभाग जम्मू कश्मीर क्षेत्र के नीति विषयक मामलों, केन्द्र-राज्य संबंध, उग्रवाद नियंत्रण एवं विकास संबंधी विभिन्न परियोजनाओं संबंधी मुद्दों पर आवश्यक कार्यवाही करता है।

जम्मू कश्मीर विभाग के प्रमुख कार्य निम्नलिखित है-

  • सशस्त्र बल (जम्मू-कश्मीर) विशेष शक्तियाँ अधिनियम, 1990 का क्रियान्वयन करना।
  • जम्मू कश्मीर क्षेत्र के विकास एवं कल्याण हेतु सभी संबंधित मंत्रालयों को समन्वय करना।
  • रक्षा मंत्रालय एवं विदेश मंत्रालय से समन्वय रखते हुये आतंकवाद नियंत्रण और भारत-पाक सीमा पर तैनाती के प्रकरण निपटाना।
  • जम्मू-कश्मीर राज्य से संबंधित संवैधानिक प्रावधान क्रियान्वित करना।
  • खीर भवानी और मट्‌टन में मकानों और पूजा स्थलों का पुनरुद्धार, बड़गांव में 200 फ्लैंटों का निर्माण, कश्मीर विस्थापितों के लिए जम्मू में आवासों का निर्माण, सीमा से विस्थापितों का पुनर्वास (कारगिल संघर्ष-1999 के दौरान) आदि जम्मू कश्मीर विभाग दव्ारा संपादित प्रमुख कार्यों के उदाहरण हैं।

गृह विभाग (Department of Home)

  • राष्ट्रपति/उपराष्ट्रपति दव्ारा कार्यभार ग्रहण करने, प्रधानमंत्रियों/मंत्रियों की नियुक्ति संबंधी अधिसूचना आदि कार्य गृह विभाग देखता है। संसद सदस्यों का मनोनयन, विधायिका में आचार संहिता, मंत्रियों की आचार संहिता संबंधी कार्य करना, राष्ट्रीय गीत, राष्ट्रीय गान, राष्ट्रीय झंडा, राष्ट्रीय चिन्ह आदि मानकों की स्थापना और राष्ट्रीय चरित्र स्थापना में सहायता करना, प्रधानमंत्री तथा संघ के अन्य मंत्रियों की नियुक्ति, पदत्याग संबंधी अधिसूचनाओं का प्रकाशन करना भी इस विभाग के कार्य हैं।
  • जनगणना, जन्म-मृत्यु पंजीकरण संबंधी कार्यों का संपादन करना, राष्ट्रपति दव्ारा क्षमादान की शक्तियों के मामलें, राष्ट्रपति के नाम से कागजों के अधिप्रमाणन संबंधी कार्य देखना गृह विभाग का दायित्व है। पद्म पुरस्कार, वीरता पुरस्कार, जीवन रक्षा पदक आदि सम्मान देना, भौगोलिक नामों में परिवर्तन संबंधी स्वीकृति देना भी विभाग के कार्य हैं।

आंतरिक सुरक्षा विभाग (Department of Internal Security)

पुलिस, कानून और व्यवस्था तथा शरणार्थियों के पुनर्वास संबंधी कार्य यह विभाग देखता है। देश की सीमाओं पर तथा आंतरिक क्षेत्रों में पुलिस बल तैनात करना एवं आतंकवाद, अलगावाद, अशांति, विद्रोह इत्यादि स्थितियों में समुचित कार्यवाही करने का दायित्व आंतरिक सुरक्षा विभाग की है। आंतरिक सुरक्षा व्यवस्था, राज्य सरकारों तथा केन्द्र शासित क्षेत्रों में पुलिस प्रशासन को समुचित मार्गदर्शन व सहायता देना, इंटरपोल से समन्वय स्थापित करना, पुलिस पदक व अन्य प्रमाण पत्र प्रदान करने का कार्य संपन्न करवाना।, होमगार्डस, नागरक सुरक्षा, युद्धकाल व्यवस्था संबंधी कार्य करना, विधि का शासन और राष्ट्रीय एकता एवं अखंडता स्थापित करने में सहायता करना, केन्द्रीय बलों जैसे-असम राइफल्स, भारत तिब्बत सीमा सुरक्षा बल (ITBP) , केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF) , केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) , राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) से संबंधित प्रशासनिक कार्यों का संपादन करवाना आंतरिक सुरक्षा विभाग की जिम्मेदारी है। इसके साथ ही भारतीय नागरिकता, निर्वासन, पंजीकरण आदि कार्य संपन्न करवाना भी इसी विभाग का कार्य है।

राज्य विभाग (Department of State)

ह विभाग केन्द्र-राज्य संबंधों, अंतरराज्य संबंधों, संघ -राज्य क्षेत्रों तथा स्वतंत्रता सेनानी पेंशन संबंधी मामले को देखता है। नये राज्यों का निर्माण, क्षेत्र परिवर्तन, नाम में परिवर्तन इत्यादि संबंधी कार्यों को करना, अंतरराज्यीय परिषद् और राष्ट्रीय एकता परिषद इत्यादि को प्रशासनिक सहायता उपलब्ध करना, अनुच्छेद-371 के अंतर्गत विशेष उपबंधों के संचालन संबंधी दायित्वों का निर्वहन करना, अग्निशमन सेवा विकास, पुलिस व कारागार सुधार संबंधी कार्य करना इस विभाग के प्रमुख कार्य हैं।

राजभाषा विभाग (Department of Official Language)

राजभाषा से संबंधित संवैधानिक एवं विधिक उपबंधों के कार्यान्वयन का कार्य देखता है। राजभाषा अधिनियम, 1963 की क्रियान्विति सुनिश्चित करना, केन्द्रीय हिन्दी संस्थान के माध्यम से हिन्दी को बढ़ावा देने वाले कार्य करना, ‘इंदिरागांधी राजभाषा पुरस्कार’ एवं ‘राजीव गांधी राष्ट्रीय ज्ञनान-विज्ञाान मौलिक पुस्तक लेखन पुरस्कार योजना’ को संचालित करना भी इस विभाग के प्रमुख कार्य है।

विदेश मंत्रालय (Ministry of External Affairs)

संगठन (Organisation)

आधुनिक शासन व्यवस्थाओं में विदेशी संबंधों का विशिष्ट तथा गंभीर महत्व होने के कारण यह विभाग प्राय: उच्च शासन सत्ता के अधीन रहा है। ब्रिटिश शासन के दौरान गवर्नर जनरल इस विभाग के कार्य स्वयं निष्पादित करते थे जबकि वर्तमान में विदेश मंत्रालय का राजनीतिक प्रभारी, प्रधानमंत्री अथवा वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री होता है जो भारत की संसद तथा केन्द्रीय मंत्रिमंडल दव्ारा निर्धारित विदेश नीति का संचालनकर्ता होता है। विदेश मंत्री की सहायतार्थ दो या तीन राज्य मंत्री एवं उपमंत्री नियुक्त किये जाते हैं। प्रशासनिक स्तर पर विदेश मंत्रालय का प्रमुख विदेश सचिव कहलाता है जो भारतीय विदेश सेवा (I. F. S.) का वरिष्ठम अधिकारी होता है।

Ministry of External Affairs
  • (विभिन्न देशों में कार्यरत भारतीय दूतावास तथा उच्चायुक्त कार्यालय रेजीडेण्ट तथा नॉन रेजीडेण्ट मिशन विदेश मंत्रालय के कार्य संपादित करते हैं तथापि इनका स्वतंत्र अस्तित्व माना जाता है।)
  • सचिवों की सहायतार्थ अनेक अतिरिक्त सचिव, संयुक्त सचिव तथा अन्य कार्मिक मंत्रालय में कार्यरत हैं।
  • विदेश मंत्रालय के अधीन कार्यरत पासपोर्ट ऑफिस देश के 44 शहरों में कार्यरत हैं। अमृतसर, कोयम्बटूर, जम्मू, श्रीनगर, गाजियाबाद, पोर्टब्लेयर, विशाखापट्‌टनम इत्यादि विदेश मंत्रालय के शाखा सचिवालय चेन्नई, गुवाहाटी, हैदराबाद, कोलकाता, धर्मशाला में स्थित हैं।

विदेश मंत्रालय के प्रमुख सहायक अभिकरण हैं-

  • भारतीय संस्कृति संबंध परिषद् (ICCR)
  • भारतीय विश्व कार्य परिषद् (ICWA)

विदेश मंत्रालय को आंतरिक सचिवालयी प्रशासनिक व्यवस्था के अंतर्गत कई संभागों में विभक्त किया गया है।

प्रशासनिक संभाग (Administrative Division)

  • प्रशासनिक संभाग
  • समन्वय संभाग
  • कॉन्सुलर, पासपोर्ट तथा वीजा संभाग
  • आर्थिक संभाग
  • संस्थापना संभाग
  • बाह्य प्रचार संभाग
  • वित्त संभाग
  • विदेश सेवा संस्थान संभाग
  • विधि एवं संधि संभाग
  • एम. ईआर. संभाग
  • नीति, नियोजक तथा शोध संभाग
  • विनियोजन प्रचार संभाग
  • प्रोटोकॉल (कान्फ्रेंस) संभाग
  • संयुक्त राष्ट्र संभाग
  • सार्क (दक्षिण एशिया सहयोग संगठन) संभाग
  • विशिष्ट इकाई संभाग
  • विशिष्ट कुवैत संभाग
  • सुरक्षा ब्यूरो
  • विश्व मामलों की भारतीय परिषद् (Indian Council of World Affairs)
  • प्रवासी भारतीय संभाग
  • लोक कूटनीति संभाग (Public Diplomacy Division)

भौगोलिक संभाग (Geographical Division)

  • अफ्रीका संभाग
  • अमेरिका संभाग
  • बांग्लादेश, श्रीलंका तथा म्यांमार संभाग (BSM)
  • केन्द्रीय एशिया संभाग
  • पूर्वी एशिया संभाग
  • पूर्वी. यूरोप संभाग
  • पश्चिमी यूरोप संभाग
  • खाड़ी संभाग
  • ईरान, पाकिस्तान तथा अफगानिस्तान संभाग (IPA)
  • लैटिन अमेरिकी देश संभाग
  • उत्तरी संभाग
  • दक्षिणी संभाग
  • वाना (पश्चिमी एशिया एवं उत्तरी अफ्रीका) संभाग।

Developed by: