भारतीय डाक भुगतान बैंक (Indian Post Payment Bank – International Relations India And The World)

Download PDF of This Page (Size: 190K)

सुर्ख़ियों में क्यों?

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारतीय डाक भुगतान बैंक की स्थापना हेतु 800 करोड़ रुपये की एक परियोजना को मंजूरी दे दी है।

मुख्य बिंदु

• भारतीय डाक भुगतान बैंक देश भर में 650 शाखायें और 5,000 एटीएम स्थापित करेगा। यह करीब 3500 कुशल बैंकिंग (साहूकारी) पेशवरों के लिए रोजगार के अवसर पैदा करेगा।

• उम्मीद है कि भारतीय डाक भुगतान बैंक अपने परिचालन के सातवें वर्ष से मनाफा कमाना शुरू कर देगा।

• भारतीय डाक भुगतान बैंक मार्च 2017 में 50 जिलों में परिचालन कार्य शुरू करेगा और वित्तीय वर्ष 2018-19 के अंत तक पूरे देश को कवर (आवरण) करेगा।

महत्व

• भारतीय डाक व्यवस्था की प्रखंड, तालुकों और गांवों तक व्यापक पहुंच और प्रसार।

• पुराना सेटअप, उपयोग में असानी, विश्वास के कई साल और ग्रामीण लोगों को उपयोग की जानकारी।

• कई दूरदराज के क्षेत्रों में दूसरे बैंको के लिए शाखा खोलना अलाभकारी है।

• प्रवासियों, मजदूरों, लघु उद्योगों और गरीब परिवारों के लिए सहायक, वित्तीय सेवाओं के उपयोग और वित्तीय समावेशन को बढ़ावा।

• डेबिट (खाते में से निकाली गई रकम) सुविधा का प्रावधान।

भुगतान बैंक क्या हैं?

• भुगतान बैंक पूर्ण सेवा प्रदान करने वाले बैंक नहीं हैं, इनका मुख्य उद्देश्य वित्तीय समावेशन में तेजी लाना है।

• भुगतान बैंक मुख्य रूप से विप्रेषण सेवाओं के लिए होंगे और 1 लाख रुपये तक की जमा राशि स्वीकार कर सकेंगे।

• वे ग्राहकों का ऋण नहीं देगे और उन्हें अपने धन को सरकारी बांड और बैंक जमा राशि में लगाना होगा।

• वे मांग जमा स्वीकार कर सकते हैं, एटीएम/डेबिट कार्ड जारी कर सकते हैं पर क्रेडिट कार्ड जारी नहीं कर सकते।

• इक्किटी पूंजी के लिए प्रवर्तकों की न्यूनतम प्रारंभिक योगदान राशि पहले पांच वर्षो के लिए कम से कम 40 प्रतिशत होनी चाहिए।

चुनौतियाँ

• कम राजस्व: ये ऋण नहीं दे सकते, इसलिए प्रारंभ में इनकी आय केवल विप्रेषण से ही हो सकती है।

• 75 प्रतिशत राशि सरकारी प्रतिभूतियों में लगानी पड़ेगी। इस प्रकार जमा अधार से कमाने की इनकी क्षमता भी सीमित है।

• जो सेवा भुगतान बैंक देंगे वही सेवा अन्य बैंक पहले से ही दे रहे हैं, इसलिए भुगतान बैंकों के लिए एक नया और अलग प्रस्ताव लाना आसान नहीं होगा।

• कुछ निजी कंपनियों (जनसमूहों) ने विभिन्न चुनौतियों की वजह से भुगतान बैंक स्थापित करने की अपनी योजना का परित्याग कर दिया है।

Doorsteptutor material for IAS is prepared by worlds top subject experts- Get detailed illustrated notes covering entire syllabus: point-by-point for high retention.

Developed by: