ऑन-टैप (फीता) बैंकिंग (महाजन) लाइसेंस (अधिकार) (On Type Backing License-Economy)

Get unlimited access to the best preparation resource for IAS/Mains General-Studies-I: fully solved questions with step-by-step explanation- practice your way to success.

Download PDF of This Page (Size: 149K)

सुर्ख़ियों में क्यों?

• भारतीय रिजर्व बैंक ने ऑन-टैप बैंकिंग लाइसेंस के लिए नयी मसौदा नीति जारी किया है।

• पिछले 2 वर्षो में रिजर्व बैंक ने वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने के लिए लाइसेंस देने की प्रक्रिया की गति को बढ़ा दिया है।

• यूनिवर्सल (संपूर्ण) बैंक (अधिकोष), भुगतान बैंक और लघु वित्त बैंक जैसी 23 संस्थाओं को विभिन्न वर्गों के तहत बैंकिंग लाइसेंस प्रदान किया गया है।

मसौदा नीति में लाइसेंस (आज्ञा) देने के लिए मानदंड

• 500 करोड़ रुपये की न्यूनतम पूंजी

• 10 साल का ट्रैक (चिन्ह) रिकॉर्ड (प्रमाण)

• व्यक्तिगत आवेदकों के लिए बैंकिंग (महाजन) और वित्त के क्षेत्र में 10 वर्षों के अनुभव की आवश्यकता है

• तीन साल के लिए न्यूनतम 13 प्रतिशत पूंजी पर्याप्तता अनुपात

• 5000 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति वाले फर्मो के लिए, समूह की गैर-वित्तीय कारोबार की कुल संपत्ति या सकल आय का 40 प्रतिशत से अधिक योगदान नहीं चाहिए।

• प्रमोटरों (प्रोत्साहक) की हिस्सेदारी 10 वर्षो में कम करके 30 फीसदी तक और 12 वर्षों में कम करके 15 प्रतिशत तक करना होगा।

• बैंक (अधिकोष) को छह साल के भीतर शेयर बाजारों में सूचीबद्ध किया जाना चाहिए।

Developed by: