विद्युत क्षेत्रक (Power sector) for IEcoS

Download PDF of This Page (Size: 206K)

सभी के लिए 24ग7 बिजली

सुर्ख़ियों में क्यों?

  • तमिलनाडु सरकार ने उज्जवल डिस्कॉम गारंटी (विश्वास) योजना के लिए भारत सरकार ने विद्युत मंत्रालय के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया है।

  • इसने ”सभी के लिए 24x7 बिजली” पहल के लिए भी हस्ताक्षर किए हैं।

पृष्ठभूमि

  • ”सभी के लिए 24x7 बिजली” का उद्देश्य 2019 तक देश में हर समय हर जगह 24x7 बिजली प्रदान करना है।

  • तमिलनाडु दव्ारा इस समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने के साथ अब उत्तर प्रदेश को छोड़कर सभी राज्यों के लिए रोडमैप (सड़क मानचित्र) को अंतिम रूप दे दिया गया है और कार्यान्वयन का दौर आरंभ हो गया है।

  • आंध्र प्रदेश और राजस्थान पहले राज्य हैं जिन्होंने 24x7 बिजली प्रदान करने के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए थे।

  • गहन विश्लेषण से यह पता चला कि सभी के लिए बिजली प्रदान करने की दिशा में राज्य वित्तीय व्यवहार्यता के मामले में पीेछे हैं।

  • इसलिए उदय का गठन किया गया ताकि घाटे में चल रही वितरण कंपनियों (संघों) को सहारा दिया जा सके।

  • उदय के अतिरिक्त सरकार ने पिछले दो वर्षों में सभी के लिए 24x7 बिजली के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कई अन्य पहलों यथा उजाला: एलईडी प्रकाश बल्ब का वितरण), डीडीयूजीजेवाई और आईपीडीएस; की शुरुआत की है।

  • सभी के लिए 24x7 बिजली के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए 2017-18 के बजट में डीडीयूजीजेवाई (दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना) और आईपीडीएस (एकीकृत बिजली विकास योजना) के लिए आवंटन में 25 प्रतिशत की वृद्धि की गई है।

दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना (क्क्न्ळश्रल्)

  • विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में 24x7 बिजली की आपूर्ति हेतु विद्युत मंत्रालय का फ्लैगशिप (ध्वज पोत) कार्यक्रम है।

  • यह 2015 में पटना में आरंभ की गयी थी।

  • ग्रामीण विद्युतीकरण के लिए इसके पूर्व चलाई गयी राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना को, इस योजना में सम्मिलित कर दिया गया है।

गर्व प्प् ऐप

सुर्ख़ियों में क्यों?

  • विद्युत मंत्रालय ने देश के सभी (6 लाख) गांवों में ग्रामीण विद्युतीकरण के बारे में रियल (वास्तविक) टाइम (समय) में डेटा (आंकड़ा) उपलब्ध करनो के लिए गर्व एप्लीकेशन (आवेदन) का शुभारंभ किया।

  • पूर्ववर्ती गर्व एप्लीकेशन केवल 18,452 अविद्युतीकृत गांवों के परिप्रेक्ष्य में ग्रामीण विद्युतीकरण के विषय में डेटा (आंकड़ा) प्रदान करता था। जबकि गर्व II सभी गांवो के बारे में रियल टाइम डाटा प्रदान करेगा।

किसी गांव के विद्युतीकरण का अर्थ

2004-05 से लागू विद्युतीकरण की परिभाषज्ञ के अनुसार, एक गांव को विद्युतीकृत घोषित किया जाएगा, यदि:

  • डिस्ट्रीब्यूशन (वितरण) लाइन (रेखा) और ट्रांसफार्मर जैसी आधारभूत संरचनाएं गांव की आबादी तक पहुंच गए हैं, साथ ही दलित बस्तियों तक पहुंच गए हैं।

  • गांव के सामुदायिक स्थानों जैसे-स्कूल (विद्यालय), पंचायतघर, स्वास्थ्य केन्द्र, दवाघर और सामुदायिक घर तक बिजली पहुंच गई हो।

  • विद्युकीकृत घरों की संख्या, गांव के कुल घरों की संख्या का कम से कम 10 प्रतिशत हो।

गर्व ऐप की मुख्य विशेषताएं

  • 15 लाख से अधिक आवासीय गांवों का मानत्रिण किया गया है।

  • इसमें संवाद नामक एक नागरिक संलग्नता विंडो (खिड़की) भी है जिसके माध्यम से लोग अपनी प्रतिक्रिया और परामर्श दे सकते हैं। यह स्वचालित ढंग से संबंद्ध अधिकारियों तक पहुँच जाएगी।

  • डीडीयूजीजेवाई के तहत राज्यों को अनुमोदित धनराशि ऐप पर तुरंत अपडेट (नवीनीकरण) कर दी जाएगी।

  • राज्य सरकारों के कार्यान्वयन एजेंसियों (शाखाओं) के कार्य की प्रगति प्रतिदिन के आधार पर ऐप पर अपडेट की जाएगी।

Developed by: