स्ट्रीट (गली) लाइटिंग (रोशनी) नेशनल (राष्ट्रीय) प्रोग्राम (कार्यक्रम) (एसएलएनपी) (Street Light National Program) for IEcoS

Get top class preparation for CTET-Hindi/Paper-1 right from your home: get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of CTET-Hindi/Paper-1.

Download PDF of This Page (Size: 179K)

  • यह दुनिया का सबसे बड़ा स्ट्रीट (गली) लाइट (रोशनी) रिप्लेसमेंट (प्रतिस्थापन) प्रोग्राम (कार्यक्रम) है, जिसे भारत सरकार के ऊर्जा मंत्रालय के तहत कार्य करने वाले संयुक्त उद्यम, ऊर्जा दक्षता सेवा लिमिटेड (सीमित) (ईईएसएल) दव्ारा लागू किया जा रहा है।

  • एसएलएनपी जनवरी 2015 में आरंभ किया गया था।

  • इस कार्यक्रम के अंतर्गत लगभग 3.5 करोड़ पारंपरिक स्ट्रीट लाइटवित रुक्ष्म्ग्।डऋछ।डम्दव्र्‌ुरुक्ष्म्ग्।डऋछ।डम्दव्रुरू स को मार्च 2019 तक स्मार्ट (शीघ्र) और ऊर्जा दक्ष एलईडी स्ट्रीट लाइट दव्ारा बदल दिया जाएगा।

  • इस योजना को अपनाने वाला पहला राज्य राजस्थान था।

थ्।डम् स्कीम (योजना)

  • 1 अप्रैल 2015 को केन्द्र सरकार ने फास्टर (तीव्रतर) एडॉप्शन (अभिग्रहण) एंड (और) मैन्युफैक्चरिंग (विनिर्माण) ऑफ़ (का) हाइब्रिड (मिश्रण) एंड (और) इलेक्ट्रिक (विद्युत) व्हीकल्स (वाहनों) (FAME –India (भारत)) के नाम से एक नई योजना प्रारंभ की।

  • इलेक्ट्रिक (विद्युत) मोबिलिटी (गतिशीलता) हेतु राष्ट्रीय मिशन (लक्ष्य) के तहत देश में पर्यावरण अनुकूल वाहन बिक्री को बढ़ावा देने के लिए यह योजना आरंभ की गई थी।

  • इस योजना का लक्ष्य है-निर्धारित अवधि देश में हाइब्रिड या इलेक्ट्रिक वाहन बाजार के विकास में सहयोग देना और इसके विनिर्माण में आत्मनिर्भरता प्राप्त करना।

  • समग्र योजना को अगले 6 वर्षों की अवधि में, अर्थात 2020 तक लागू किया जाना है।

  • यह योजना चरणबद्ध तरीके से लागू की जाएगी। चरण-1 को दो वर्ष में वित्त वर्ष 2015-16 में लागू किया जाएगा।

  • योजना के चार फोकस (ध्यान) क्षेत्र- प्रौद्योगिकी विकास, पायलट (संचालन) परियोजनाएं, मांग निर्माण और चार्जिंग (प्रभार) इंफ्रास्ट्रक्चर (आधारित संरचना) हैं।

  • भारी उद्योग मंत्रालय के अंतर्गत भारी उद्योग विभाग, इस योजना के लिए नोडल (बुनियादी) विभाग बनाया जाएगा।

रिपोर्ट (विवरण)

मानव विकास सूचकांक

  • जीवन प्रत्याशा और प्रति व्यक्ति आय में वृद्धि के कारण भारत नवीनतम UNDP रिपोर्ट में 131वें स्थान पर था।

  • मानव विकास सूचकांक (एचडीआई) मानव विकास के प्रमुख आयागों में औसत उपलब्धि का एक संक्षिप्त माप है: इन आयामों में एक दीर्घ और स्वस्थ जीवन, शिक्षा और जीवन का एक मानक स्तर शामिल है।

  • एचडीआई, प्रत्येक तीन आयामों के सामान्यीकृत सूचकांकों का ज्यामितीय माध्य है।

HDI Components

भ्क्प् ब्वउचवदमदजे

भ्क्प् ब्वउचवदमदजे

Developed by: