ईज ऑफ़ (का) डूइंग (काम) बिज़नेस (व्यापार) रैंकिंग (श्रेणी) पृष्ठभूमि (Ease of Doing Business Rankings) Background for NTA (UGC)-NET

Glide to success with Doorsteptutor material for UGC : get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of UGC.

Download PDF of This Page (Size: 192K)

A long way to go

। सवदह ूंल जव हव

  • विश्व बैंक अर्थव्यवस्थाओं की उनकी ईज ऑफ़ डूइंग बिज़नेस (व्यापार करने की सुगमता) के आधार पर रैंकिंग करता है।

  • ईज ऑफ़ डूइंग बिज़नेस की उच्च रैंकिंग का अर्थ यह है कि विनियामकीय वातावरण स्थानीय फर्म (व्यवसाय संघ) का शुभारंभ और संचालन करने हेतु अपेक्षाकृत अधिक अनुकूल है।

  • यह रैंकिंग 10 शीर्षकों पर फ्रंटियर (सीमांत) स्कोर (अंक) से कुल दूरी की गणना करके निर्धारित की जाती है। प्रत्येक शीर्षक कई संकेतकों से मिलकर बना है तथा प्रत्येक शीर्षक को बराबर महत्व दिया जाता है।

  • पिछले कुछ वर्षों के दौरान इस रैंकिंग में भारत निचले पायदान पर रहा है। 2017 की हाल रैंकिंग में, भारत एक स्थान ऊपर चढ़कर 130वें स्थान पर पहुंच गया है।

  • यह मामूली सुधार भी चार संकेतकों-विद्युत प्राप्ति, अनुबंधों का प्रवर्तन, सीमा-पार व्यापार और संपत्ति के पंजीकरण में कुछ हद तक सुधार के चलते आया है।

एसडब्ल्यूआईएफटी ईज (शांत) ऑफ़ (का) डूइंग (काम) बिज़नेस (व्यापार)

सुर्ख़ियों में क्यों?

  • विश्व बैंक की ईज ऑफ़ डूइंग बिज़नेस रिपोर्ट-2016 में भारत 2015 की तुलना में चार पायदान ऊपर आ गया है। अब इसकी रैंकिंग (श्रेणी) 2015 के 134वें स्थान की तुलना में 130वीं (189 देशों के बीच) हो गयी है।

  • रैंकिंग में सुधार का एक कारण एसडब्ल्यूआईएफटी (सिंगल (एकल) विंडो (खिड़की) इटंरफेश (अंतरापृष्ठ) फॉर (के लिये) फेसिलिटीएटींग (अभिनंदन करना) ट्रेड (व्यापार)) है।

एसडब्ल्यूआईएफटी क्या है?

  • केन्द्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क बोर्ड (परिषद) (सीबीईसी) ने व्यापार को सुविधाजनक बनाने और ईज ऑफ़ डूइंग बिज़नेस में सुधार करने के लिए 1 अप्रैल, 2016 को एसडब्ल्यूआईएफटी का शुभारंभ किया।

  • एसडब्ल्यूआईएफटी वस्तुत: आयातको/निर्यातकों को आईसीईजीएटीई (इंडियन (भारतीय) कस्टम (कर) इलेक्ट्रोनिक (विद्युतीय) कॉमर्स (वाणिज्य)/इलेक्ट्रोनिक (विद्युतीय) डेटा (आंकड़े) इटंरचार्ज (अंतरशुल्क) गेटवे) (दरवाज़ा) पर एक कॉमन (सामान्य) इलेक्ट्रॉनिक (विद्युतीय), इंटीग्रेटेड (को एकीकृत) डेक्लेरेशन (घोषणा) दायर करने के लिए सक्षम बनाता है।

  • यह एकीकृत घोषणा मुख्यत: सीमा शुल्क, एफएसएसएआई, पादप संगरोध, पशु संगरोध, ड्रग (नशीली दवा) कंट्रोलर (नियंत्रक), वन्य जीवन नियंत्रण ब्यूरो और वस्त्र समिति के लिए आवश्यक जानकारी को संकलित करता है।

नेटवर्क (समूह) रेडीनेंस इंडेक्स (सूचकांक)

  • जेनेवा स्थित विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) दव्ारा हाल ही में जारी 2016 के नेटवर्क रेडीनेंस इंडेक्स में भारत 91वें स्थान पर है।

  • यह डिजिटल (अंकीय) अर्थव्यवस्था एवं डिजिटल समाज की ओर अग्रसर होने हेतु आवश्यक अनुकूल स्थितियां उत्पन्न करने में विभिन्न देशों की सफलता को मापता है।

विश्व आर्थिक मंच के बारे में

  • इसका गठन 1971 में एक गैर-लाभकारी संस्था के रूप में किया गया था। इसका मुख्यालय स्विटवित रुक्ष्म्ग्।डऋछ।डम्दव्र्‌ुरुक्ष्म्ग्।डऋछ।डम्दव्रुरू जरलैंड के जेनेवा में है।

  • वैश्विक, क्षेत्रीय और उद्योग संबंधी एजेंडें (कार्यसूची) को आकार देने हेतु यह महत्वपूर्ण राजनीतिक, व्यापारिक और समाज के अन्य नेताओं को एक मंच पर साथ लाता है।

Developed by: