इंडिया (भारत) न्यूक्लियर (नाभिकीय) इंश्योरेंस (बीमा) पूल का शुभारंभ (Launch of India Nuclear Insurance Bridges – Ecology)

Glide to success with Doorsteptutor material for CTET-Hindi/Paper-1 : get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of CTET-Hindi/Paper-1.

• भारतीय साधारण बीमा निगम (जी. आई. सी) और 11 अन्य गैर-जीवन बीमा कंपनियों (संभा) ने इंडिया (भारत) न्यूक्लियर (नाभिकीय) इंश्योरेंस (बीमा) पूल का गठन किया है।

• इसकी धारिता 1,500 करोड़ रुपये होगी।

• न्यू (नया) इंडिया (भारत) इंश्योरेंस (बीमा) , पॉलिसी (कूटनीति) जारी करेगा और पूल में भागीदारी करने वाली सभी प्रत्यक्ष बीमा कंपनियों की ओर से संचालकों और आपूर्तिकर्ताओं के लिए कवर (आवरण) का प्रबंधन करेगा।

• प्रस्तावित पॉलिसियां (बीमा) दो प्रकार की होंगी: परमाणु संचालनकर्ता दायित्व (सी. एल. एन. डी. अधिनियम 2010) बीमा पॉलिसी (बीमा) और परमाणु आपूतिकर्ता विशेष आकस्मिकता (आश्रय के अधिकार के प्रति) बीमा पॉलिसी (बीमा) ।

• आरंभ में इसके दव्ारा तृतीय पक्ष दायित्व बीमा के निपटान की आशा की जाती है और बाद में संपत्ति और अन्य हॉट जोन (गरम क्षेत्र) (रिएक्टर (प्रतिघातक) क्षेत्रों के अंदर) के जोखिम तक इसका विस्तार किया जाएगा। यह संचालनकर्ताओं और आपूतिकर्ताओं, दोनों को कवर (आवरण) करेगा। वर्तमान में केवल कोल्ड जोन (ठंडा क्षेत्र) (रिएक्टर के बाह्य क्षेत्र) आच्छादित हैं।

Developed by: