पनामा दस्तावेज़ लीक (रहस्योद्धाटन) (Panama Document Leaks – Economy) for RBI Assistant Exam

Doorsteptutor material for CTET-Hindi/Paper-2 is prepared by world's top subject experts: get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of CTET-Hindi/Paper-2.

• मोसैफ फ़ोनसेका नामक एक लॉ फर्म (विधि विशेष संगठन) , जिसका मुख्यालय टैक्स (कर) हेवन देश पनामा में अवस्थिति है, की गुप्त फाइलों में से 11 मिलियन (दस लाख) से अधिक दस्तावेज लीक (रहस्योद्धाटन) हो गए।

• इन दस्तावेजों में उन व्यक्तियों के नाम उजागर हुए हैं, जिन्होंने दुनिया भर के टैक्स (कर) हेवन देशों में अपतटीय संस्थाओं की स्थापना की है।

• ये अपतटीय संस्थायें वास्तविक स्वामित्व छुपाती हैं लेकिन फिर भी इस शिथिल कर नियामक प्रणलियों का अनुपालन करती हैं।

• फर्म की अपतटीय कंपनियों (संघ) , संस्थाओं और ट्रस्ट (भरोसा) की सूची में 500 से अधिक भारतीयों के नाम हैं।

प्रासंगिक कानून

• आरबीआई के नियमों के अनुसार, एक व्यक्ति को उदारीकृत विप्रेषण योजना के तहत प्रति वर्ष 2,50, 000 डॉलर (अमेरिका व अन्य राज्यो की प्रचलित मुद्रा) तक की राशि के प्रेषण की अनुमति है।

• हालांकि आरबीआई व्यक्तियों को एलआरएस के तहत पहले केवल शेयर खरीदने की अनुमति देता था, परन्तु अगस्त 2013 के बाद इन्हें विदेशों में कंपनियों की स्थापना करने की अनुमति प्रदान की।

• फाइनेंसियल (वित्तीय संबंधी) एक्शन (क्रिया) टास्क (कार्य) फोर्स (बल) (एफएटीएफ) दव्ारा निर्धारित “गैर-सहयोगी” देशों में उक्त धन नहीं भेजा जा सकता है।

Developed by: