एनसीईआरटी कक्षा 7 राजनीति विज्ञान अध्याय 2: स्वास्थ्य में सरकार की भूमिका यूट्यूब व्याख्यान हैंडआउट्स for RBI Grade B (NRA) Exam

Get unlimited access to the best preparation resource for IAS : Get detailed illustrated notes covering entire syllabus: point-by-point for high retention.

Get video tutorial on: Examrace Hindi Channel at YouTube

एनसीईआरटी कक्षा 7 राजनीति विज्ञान (NCERT Pol. Sc. Class 7) अध्याय 2: स्वास्थ्य में सरकार की भूमिका
  • मौलिक अधिकार के रूप में स्वास्थ्य का अधिकार लेकिन प्रावधान असमान है|
  • लोकतंत्र: सरकार कल्याण के लिए काम करने के लिए - शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार, आवास या सड़कों, बिजली के विकास आदि।

स्वास्थ्य

  • बीमारी या चोट से मुक्त रहना|
  • पर्याप्त भोजन
  • स्वच्छ पिने का पानी
  • प्रदूषण मुक्त पर्यावरण
  • मानसिक तनाव के बिना
  • अनुकूलता से कल्याण तक
  • आयुष मिशन

भारत में स्वास्थ्य सुरक्षा

  • दुनिया में सबसे बड़ी मेडिकल कॉलेज
  • डॉक्टरों की सबसे बड़ी संख्या
  • कई देशों से चिकित्सा पर्यटन
  • औषधीय उद्योग विस्तार में तीसरा सबसे बड़ा और मूल्य में 14 वां सबसे बड़ा है|

समस्याएं सामने आईं

  • क्षयरोग सबसे बड़ा घातक है|
  • कुपोषण
  • संचारी रोग
  • ग्रामीण क्षेत्रों की दुर्दशा

(ग्रामीण स्वास्थ्य पर आगामी व्याख्यान का संदर्भ लें – कुरुक्षेत्र जुलाई 2017)

सार्वजनिक स्वास्थ्य देखभाल व्यवस्था

  • सरकार द्वारा चलती है|
  • बड़ी संख्या में लोगों के स्वास्थ्य की देखभाल करती है|
  • मिशन इंद्रधनुष - टीकाकरण
  • राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा मिशन – मुफ्त दवा और निदान और बीमा राशि
  • लोगों को अनुचित स्वास्थ्य सेवा सुविधाएं
  • OPD तेजी से ले जाना (बाह्य रोगी विभाग – लोगों को पहले भर्ती किए बिना लाया जाता है) , लंबी कतार में
  • ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों में
  • PHC: गांव के स्तर पर
  • जिला: जिला अस्पताल
  • इन्हें चलाने के लिए पैसा चुकाए गए करों से आता है|
  • मुफ्त और कम पैसे वाली सेवाएं
  • क्षय रोग, जॉन्डिस, , मलेरिया, कोलेरा जैसी बीमारियों फैलने से रोकता है
  • यूनिसेफ के मुताबिक, भारत में हर साल 2 मिलियन से ज्यादा बच्चे निवारण करने योग्‍य संक्रमण से मर जाते हैं|
  • जीवन के अधिकार की रक्षा करता है|

निजी स्वास्थ्य देखभाल व्यवस्था

  • डॉक्टरों के पास खुदका अस्पताल होता है|
  • ग्रामीण क्षेत्र: पंजीकृत चिकित्सा चिकित्सक (RMPs)
  • शहरी क्षेत्र: विशिष्ट सेवाएं
  • नैदानिक सेवाएं
  • दवा की दुकाने
  • सरकार द्वारा नियंत्रित नहीं है
  • रोगी को अधिक भुगतान करना पड़ता है|

स्वास्थ्य देखभाल और समानता

  • स्वास्थ्य सेवा में निजी क्षेत्र बढ़ रहा है|
  • निजी क्षेत्र शहरी क्षेत्रों तक ही सीमित है|
  • लाभ से चलने वाले निजी क्षेत्र की सेवाएं
  • महंगी दवाओं के साथ निजी क्षेत्र की कीमत अधिक है|
  • निजी क्षेत्र द्वारा गलत कार्य होता है|
  • गोलियां या साधारण दवाएं पर्याप्त होने पर डॉक्टर अनावश्यक दवाएं, इंजेक्शन या ग्लूकोज़ की बोतलें लिखते हैं|
  • बीमार होने पर केवल 20 % ही दवाएं दे सकते हैं|
  • 40 % भर्ती मरीजों को पैसा उधार लेना पड़ता है|
  • बीमारी - मुख्य रूप से रोटी कमाई करने वाले गरीबों के लिए चिंता और परेशानी का कारण बनती है|
  • पैसे की कमी - कोई उचित चिकित्सा उपचार नहीं मिलता है|
  • जनजातीय क्षेत्रों में स्वास्थ्य केंद्रों की कमी है|

मुद्दों को हल करना

  • सरकार की जिम्मेदारी
  • गरीब और वंचित लोगों के लिए समान स्वास्थ्य देखभाल
  • स्वास्थ्य बुनियादी सुविधाओं और लोगों की सामाजिक स्थितियों पर निर्भर करता है|
  • 1996: केरल ने पंचायतों को 40 % निर्धारण लक्ष्य दिया - पानी, भोजन, विकास और शिक्षा, आंगनवाड़ी, स्वास्थ्य देखभाल (अपर्याप्त बिस्तरों और डॉक्टरों पर ध्यान केंद्रित करता है)

कोस्टा रिका: दक्षिण अमेरिका में स्वस्थ देश, कोई सेना नहीं रखता है और स्वास्थ्य पर निर्धारण लक्ष्य का उपयोग करता है, लोगों की शिक्षा और बुनियादी जरूरतों – सुरक्षित पिने का पानी, स्वच्छता, पोषण और आवास

संविधान: पोषण के स्तर और जीवन स्तर को बढ़ाने और सार्वजनिक स्वास्थ्य में सुधार के लिए राज्य का कर्तव्य|

Developed by: