यमन संघर्ष-विराम (Yemen Conflict – International Relations)

Doorsteptutor material for CTET-Hindi/Paper-1 is prepared by world's top subject experts: get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of CTET-Hindi/Paper-1.

यमन में सऊदी अरब एवं सहयोगी बलों तथा शिया हौथी विद्रोहियों के बीच संयुक्त राष्ट्र समर्थित संघर्ष-विराम प्रभावी हो गया है।

सऊदी अरब के नेतृत्व में सुन्नी अरब गठबंधन

• सऊदी अरब और उसके सहयोगी दलों ने राष्ट्रपति हादी की अपदस्थ सरकार की बहाली और शिया हौथी विद्रोहियों, जिन्होंने राजधानी सना पर अधिकार कर लिया था, को कमजोर करने के लक्ष्य से मार्च 2015 में यमन पर बमबारी शुरू कर दी।

यमन पर संघर्ष का प्रभाव

• उग्रवाद का उदय

• एक विनाशकारी युद्ध के बीच राज्यविहीन अराजकता ने ‘अल-कायदा इन अरेबियन पेनिन्सुला (एक्यूएपी) ’ के सशक्त होने में मदद की है। इसने देश में तेजी से अपना विस्तार किया है। अब यह दक्षिणी यमन में एक लघु राज्य की भांति व्यवस्था का संचालन करता है।

• मानवीय त्रासदी

Developed by: