Political Geography, Practicality of Heartland, Heartland Theory by Mackinder Part 21

Doorsteptutor material for UGC is prepared by world's top subject experts: Get detailed illustrated notes covering entire syllabus: point-by-point for high retention.

Download PDF of This Page (Size: 184K)

Political geography

Paper I-Model & theory

Heartland & rim and theory

Heartland theory by Mackinder:-

  • भू-राजनीति शब्द के दव्ारा सामरिक सहयोग एवं भूस्थानिक अंर्तसंबंधी को व्याख्याकृत करते है। MAHAN ने सर्वप्रथम भू राजनीति में ऐतिहासिक दृष्टिकोण स्थापित किये जिसमें जल एवं थल शक्तियों के ऐतिहासिक संघर्ष को दर्शाया तथा जल शक्ति को सर्वोपरि माना।

  • 1904 में Mackinder ने geographical pivot of history में mahan के संकल्पना को व्युत्क्रमित कर दिया तथा थल शक्ति को प्रभुत्व शाली बतलाया जिसमें भंगोलों के इतिहास का आधार है।

  • Mockinder ने geospatial model (भूस्थानिक model) के रूप में हृदयस्थल सिद्धांत को प्रस्तुत किया जिसमें त्रिस्तरीय भौगोलिक एवं भू राजनीतिक विभाजन किया।

  • Pivot area :-यह पश्चिम में यूराल दक्षिण में मध्य एशिया की उच्च भूमि पूर्व में साइबेरियन पर्वत एवं उत्तर में आर्कटिक क्षेत्र है जहाँं असीम संपदायें प्राप्त होती है तथा यह थल शक्ति का परिचायक है। यह एक प्राकृतिक दुर्ग है जो अभेदय, अगम्य एवं बाह्य आक्रमण से सुरक्षित है।

  • आंतरिक अर्धचन्द्र:-यह तटीय प्रदेश है जो pivot area के चारों तरफ विस्तृत है एवं यह जल शक्ति का परिचायक है।

    • जैसे-यूरोप, पूर्वी चाइना, कोरिया, sw ऐशिया

  • सुगम्यता के कारण असुरक्षित है एवं बाह्य आक्रमण से ग्रसित

  • बाह्य अर्धचन्द्र:-नई दुनिया के देश सम्मिलित है एवं यह भू राजनीति एवं शक्ति संघर्ष से बाहर अवस्थित है। यूके एवं जयपुर को भी इसी वर्ग में रखा गया।

  • world island की परिकल्पना:-यूरेसिया एवं उत्तरी सहारा world island को माना जहाँ शक्ति संघर्ष का केन्द्र है। 2/3 भूमि पर 3/4 से अधिक जनसंख्या निवास करती है।

  • 1918 में Mackinder ने अपनी नई पुस्तक democratic ideals & reality में हृदय स्थल सिद्धांत को प्रतिपादित किया जिसमें इन्होंने pivot area को रूपांतरित कर हृदय स्थल घोषित किया। पश्चिम में Volga basin, दक्षिण में हिमालय, इरान, तुर्की के पर्वत को सम्मिलित किया।

  • Mackinder अपने भू राजनैतिक संकल्पना में तीन कारणों से सशक्त हुए:-

    • 1917 में गोलसेवी क्रांति एवं रूस में शक्तिशाली केन्द्रीय प्रशासन का उदय।

    • प्रथम विश्वयुद्ध में यूरोप में जर्मनी की पराजय का निर्माण।

    • Trans Siberian rail way का निर्माण जिससे साइबेरिया के संसाधन आपस में जुड़ गये, जाग्रत हुए।

इन्हाेेंने आंतरिक अथवा सीमां अर्धचन्द्र को विकसित कर संपूर्ण अफ्रीका को सम्मिलित कर लिया।

  • Mackinder ने heart land theory को विकसित करने में नि.लि. अवधारणाओं का प्रयोग किया हैं-

    • ऐतिहासिक काल से जल एवं थल शक्ति में भू राजनैतिक संघर्ष हैं।

    • इतिहास भूगोल के कारको पर निर्मित हैं। भौगोलिक दशाओं में परिवर्तन, जलवायु में परिवर्तन इतिहास के धड़कनों को उत्पन्न करते हैं।

    • थल शक्ति जल शक्ति से श्रेष्ठ है क्योंकि तटीय देश सुगम्य है एवं आक्रमणकारी अपने प्रभुत्व को आसानी से स्थापित कर सकते है।

  • इन्होंने एक प्रसिद्ध भू राजनैतिक कहावत लिखी “who rules eastern Europe command the heart land, who rules heart land, command the world island, who rules world island command’s the world.”

  • 1944 में Mackinder ने HLT को पुन: संशोधित किया क्योंकि यूएस का super power के रूप में उदय हो चुका था। इन्होंने द्धिध्रुवीय विश्व शक्ति केन्द्रीयता को संकल्पना के रूप में प्रस्तुत किया। विश्व में 2 शक्तियों को केन्द्र माना।

    • हृदय स्थल

    • Mid land basin

  • यह यूके एवं उत्तर पूर्वी यूएस का संयुक्त भाग है। अटलांटिक महासागर इनके मध्य अवरोधक नहीं बल्कि सुगम्यता को उत्पन्न करता हैं। दोनों ही भागों में एक ही प्रजाति धर्म-आर्थिक सामाजिक राजनैतिक चिंतन के लोंग रहते है अत: इनके सामरिक अभिरूचियाँ सदृश्य है। यह प्रपत्र foreign affairs नामक पत्रिका round world & winning of the peace में प्रकाशित हुआ था। इस प्रकार हृदय स्थल भूशक्ति है जो आने वाले विश्व पर अपने अवस्थिति संसाधन एवं भू-राजनैतिक तथा सामरिक संबंधों के कारण प्रभुत्व स्थापित करेगा।

आलोचना:-

  • HLT महज एक परिकल्पना है जिसे solina ने सुन्दर शब्दों से रचित महानतम ग्रंथ बतलाया जिसके सार तत्व नगण्य थे land एवं sea power में ऐतिहासिक संघर्ष की संकल्पना अनुचित है क्योंकि sea power आपस में संघर्षशील रहे है। फ्रांस, जर्मनी, यूके, डच।

  • भौगोलिक दशायें इतिहास को निर्धारित करती है। यह नियतिवादी संकल्पना है। आंशिक सत्य हो सकता है इतिहास पर सामाजिक आर्थिक जीवन के प्रभाव अधिक परिलक्षित होते है।

  • Heartland न तो अभेद्य दुर्ग है न ही प्राकृतिक क्रिया। यह चारों तरफ से सुगम्य है।

  • यह मॉडल Mercator प्रक्षेण्य पर निर्मित हैं जिसमें ध्रुव बिन्दु न होकर विषुवत के सामनांतर रेखा हो जाती है जिससे अमेरिका एवं रूस दूरस्थ दिखते है परन्तु वास्तव में एक दूसरे के अतिनिकटस्थ है।

  • इस मॉडल में यूके एवं जापान को विश्व दव्ीप से बाहर रखा गया जबकि आधुनिक विश्व की भूराजनीति में इनका महत्वपूर्ण स्थान है।

  • Rim land theory:- spykmar ने 1943-44 में इनके मरणोपरांत प्रकाशित की गई जो वास्तव में heartland सिद्धांत की आलोचना है। इन्होंने त्रिस्तरीय तंत्र को स्वीकृत किया है तथा inner crescent को Rim land माना है यह Rimland समुद्री शक्ति का परिचायक है इसकी प्रशंसा में लिखा कि तटीय संलग्नता भौगोलिक लाभ है सुगम्यता, विश्व व्यापार एवं आर्थिक शक्ति के उदय में सहयोगी होता है। Rimland पर विश्व की 2/3rd जनसंख्या निवास करती है तथा यहाँं सभी संसाधन उपलब्ध है। पेट्रोलियम लोहा, कोयला आदि ऐतिहासिक काल में भी Rimland के देश प्रभुत्वशाली रहे।

  • जबकि heartland एक दुर्गम्य जलवायविक जटिलताओं एवं कठिन भूदृश्य से युक्त दुखांतक क्षेत्र (agony) है जहाँ संसाधन सुक्षुप्त एवं सर्वाधिक महत्वपूर्ण संसाधन मानव संसाधन भी अनुपस्थित है।

  • Trans-siberian railway 4 दिन में यात्रा पूरी करता है। जो किसी भी प्रकार की सामरिक सुरक्षा एवं आर्थिक संबंद्धता को नहीं जोड़ सकता।

  • यह सामारिक रूप से सर्वाधिक विलगित प्रदेश है जो वैश्विक भूराजनीति में भागीदारिता भी नही निभा सकता। इस प्रकार से भू सामरिक दृष्टिकोण से अधिक महत्वपूर्ण है क्योंकि अवस्थिति संसाधन समुद्री शक्ति मानव सकेन्द्रण, विश्व व्यापार का केन्द्र है।

Who controls rim land, rules the

Who rules the Eurasia controls the destinies of the world.

Heartland की व्यवहारिकता:- (Practicality of Heartland)

  • Pre cold war :-क्रांति एवं रूस की शक्ति का उदय

    • USSR का गठन heartland का शक्ति केन्द्र बनना है।

    • Trandsiborian rail से आर्थिक शक्ति के रूप में उदय क्योंकि kuzbas –ural coal link स्थापित हुआ।

    • IInd wwमें जर्मनी की पराजय

    • जर्मनी का Baltic corridor से प्रवेश करना एवं रूस के हाथों पराजय।

  • Cold war period:-

    • Cuban missile crisis :- USSR ने क्यूबा पर अमेरिकी दबाव के विरोध में nuclear missile को भेजा। इस प्रकार रूस ने शक्ति संतुलन स्थापित किया।

    • 1971 indo-pak war :- USA के 7वें बेड़े के जवाब में (nuclear जहाज) रूस ने भारत के साथ परमाण्विक संधि की तथा जवाबी हमले का भय उत्पन्न किया।

    • वियतनाम युद्ध:- USSR की सेना ने वियतनाम को समर्थन किया तथा यूएसए हारकर भागा।

वर्तमान प्रसंग:-

  • 1990 में USSR का विखंडन तथा आर्थिक शक्ति के रूप में पतन परन्तु सामरिक शक्ति के रूप में आज भी विद्यमान है।

  • Sco की स्थापना heartland के पुर्नउदय का प्रयास है।

  • Us एक वैश्विक आर्थिक भूराजनैतिक शक्ति है जिसे नकारा नहीं जा सकता।

  • रूस का aretic सागर विवाद में प्रभावी/वर्चस्व

ये model वर्तमान में अप्रासंगिक हो चुके है क्योंकि अब संपूर्ण विश्व वैश्विक ग्राम बन चुका है तथा युद्ध संघर्ष का अंत हो चुका है। पुन: nuclear power एवं airpower के काल में land power एवं sea power की संकल्पना क्षीण पड़ती है।

Developed by: