नेशनल (राष्ट्रीय) इंडस्ट्रियल (औद्योगिक) कॉरिडोर (गलियारा) डेवलपमेंट (विकास) एंड (तथा) इम्प्लीमेंटेशन (कार्यान्वयन) ट्रस्ट (संस्था) (एनआईसीडीआईटी) (National Industrial Corridor Development Implementation Trust) for Arunachal Pradesh PSC

Doorsteptutor material for competitive exams is prepared by world's top subject experts: get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of your exam.

  • सरकार ने दिल्ली मुंबई इंडस्ट्रियल (औद्योगिक) कॉरिडोर (गलियारा) -प्रोजेक्ट (परियोजना) इम्प्लीमेंटेशन (कार्यान्वयन) ट्रस्ट (संस्था) फंड (निधि) (डीएमआईसी-पीआईटीएफ) के विस्तार के शासनादेश/आदेश को स्वीकृति प्रदान कर दी है। साथ ही नेशनल इंडस्ट्रियल कॉरिडोर डेवलपमेंट एंड इम्प्लीमेंटेशन ट्रस्ट (एनआईसीडीआईटी) के रूप में इसे पुन:स्थापित किया गया है।

  • एनआईसीडीआईटी, औद्योगिक नीति और संवर्धन विभाग (डीआईपीपी) के प्रशासनिक नियंत्रण के अंतर्गत एक शीर्ष निकाय है। इसका कार्य निम्नलिखित इंडिस्ट्रयल (औद्योगिक) कॉरिडोर (गलियारा) का संयोजित तथा संयुक्त विकास करना है:

  • दिल्ली मुंबई इंडिस्ट्रयल कॉरिडोर (डीएमआईसी)

  • चेन्नई बेंगलुरु इंडिस्ट्रयल कॉरिडोर (सीबीआईसी)

  • अमृतसर कोलकाता इंडिस्ट्रयल कॉरिडोर (एकेआईसी)

  • बेंगलुरु मुंबई इंडिस्ट्रयल कॉरिडोर (बीएमआईसी)

  • विज़ाग चेन्नई इंडिस्ट्रयल कॉरिडोर (वीसीआईसी)

  • एनआईसीडीआईटी योजनाओं के विकास की गतिविधियों तथा योजनाओं के मूल्यांकन, अनुमोदन एवं संस्तुति में सहयोग करेगा।

  • यह इंडिस्ट्रयल (औद्योगिक) कॉरिडोर (गलियारा) प्रोजेक्टवित रुक्ष्म्ग्।डऋछ।डम्दव्र्‌ुरुक्ष्म्ग्।डऋछ।डम्दव्रुरू स (परियोजना) के विकास हेतु किये जा रहे सभी केन्द्रीय प्रयासों का समन्वय एवं निरीक्षण भी करेगा।

सभी राजमार्गो पर हरित क्षेत्र का विस्तार

  • सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने राष्ट्रीय राजमार्ग के किनारे हरित क्षेत्र के विस्तार हेतु दो योजनाएं, अडॉप्ट (अपनाना) ए (एक) ग्रीन हाइवे (हरित राजमार्ग) और ’किसान हरित राजमार्ग योजना’ की शुरुआत की है।

  • ’अडॉप्ट ए ग्रीन हाइवे’ पहल के अंतर्गत कॉर्पोरेट, PSUs और NGOs राष्ट्रीय राजमार्ग के दोनों ओर के विस्तार (NH stretches) (हिस्सों) में वृक्षारोपण करने तथा रख-रखाव हेतु इसे 5 वर्ष के लिए अपने संरक्षण में ले सकते हैं।

  • ’किसान हरित राजमार्ग योजना’ के अंतर्गत एनएचएआई किसानों को राजमार्ग के किनारे उनके खेतों में वृक्षारोपण करने हेतु तकनीकी तथा वित्तीय सहायता प्रदान करेगा।