आचार संहिता (Code of Ethics – Part 13)

Get top class preparation for competitive exams right from your home: get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of your exam.

इंजीनियरिंग (अभियंता) पेशा के लिए कोड ऑफ इथिक्स (आचार संहिता)

इंस्टीट्‌यूशन ऑफ इंजीनियर्स ’निगमित सदस्यों के लिए नैतिक संहिता’: इंस्टीट्‌यूशन ऑफ इंजीनियर्स ने इंजीनियरिंग पेशा से जुड़े पेशेवरों के लिए ’कोड ऑफ इथिक्स’ बनाया है जो कि 1 मार्च, 2004 से लागू है। इसकी प्रमुख विशेषताएं निम्नलिखित हैं:

2.1 एक कंपनी (कॉरपोरेट) के सदस्य अपने ज्ञान और विशेषज्ञता का उपयोग अनुभागीय या निजी हितों के बिना किसी-भेदभाव के समुदाय के कल्याण स्वास्थ्य और सुरक्षा के लिए करेगा।

2.2 एक कंपनी (संघ) के सदस्य समुदाय व पेशें के विश्वास रखने के लिए अपने सभी व्यावसायिक कार्यो में सम्मान, सत्यनिष्ठा और गरिमा को बनाए रखेगा।

2.3 एक कंपनी के सदस्य केवल अपनी क्षमता के हिसाब से और लगन, देखभाल, गंभीरता और ईमानदारी के साथ कार्य करेगा।

2.4 एक कंपनी के सदस्य इन सिद्धांतों के प्रति अपने दायित्वों के साथ समझौता किए बिना अपने ज्ञान एवं विशेषज्ञता को अपने नियोक्ता या उन ग्राहकों के हित में लागू करेगा जिसके लिए वह काम करता है।

2.5 एक कंपनी के सदस्य स्वयं या अपने साथियों की योग्यता, अनुभव, आदि का गलत प्रतिनिधित्व नहीं करेगा।

2.6 एक कंपनी के सदस्य उसके कार्यो से उत्पन्न पर्यावरणीय आर्थिक, सामाजिक या अन्य संभावित परिणामों को, जहां आवश्यक एवं संभव हो, खुद को अपने नियोक्ता को या ग्राहक को सूचित करने के लिए सभी उचित कदम उठाएगा।

2.7 एक कंपनी के सदस्य बयान देने या गवाह देने में अत्यंत ईमानदारी और निष्पक्षता को बनाए रखेगा और ऐसा वह पर्याप्त ज्ञान के आधार पर करेगा।

2.8 एक कंपनी के सदस्य प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से किसी अन्य सदस्य के पेशेवर प्रतिष्ठा को चोट नहीं पहुंचाएगा।

2.9 एक कंपनी के सदस्य अनुचित व्यवहार को शामिल करने वाले या परिस्थितिकी तंत्र को अपरिहार्य नुकसान पहुंचाने वाले किसी भी प्रस्ताव को खारिज कर देगा।

2.10 एक कंपनी के सदस्य को विकास की प्रक्रिया की सततता को बनाये रखने के लिए चिंता करनी चाहिये और अपनी क्षमताओं का सर्वाधिक इस्तेमाल करेगा।

2.11 एक कपंनी के सदस्य किसी भी तरीके से ऐसा कार्य नहीं करेगा, जिससे संस्था की प्रतिष्ठा को चोट पहुंचती हो या फिर संस्थान को किसी अन्य तरीके से अथवा आर्थिक स्तर पर नुकसान होता हो।

मीडिया (संचार माध्यम) के लिए कोड ऑफ इथिक्स (आचार संहिता)

मीडिया के लिए नैतिक संहिता भारतीय प्रेस परिषद एवं स्वशासित न्यूजब्रॉडकास्टर्स (समाचार प्रसारण) एसोसिएशन (संगति) ने तैयार किये हैं।

न्यूजब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन की कोड ऑफ इथिक्स एवं प्रसारण मानक

खंड: मौलिक या बुनियादी सिद्धांत

1. इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से जुड़े पेशेवर पत्रकारों को यह स्वीकार करना चाहिए और समझना चाहिए कि वे जनता के विश्वास के पहरेदार हैं और इसलिए उन्हें सत्य की खोज करने और उसे संपूर्ण रूप में पूरी आजादी के साथ और निष्पक्षता के साथ लोगों के सामने पेश करना चाहिए। पेशेवर पत्रकारों का अपने दव्ारा किए गए कामों के संबंध में पूरी तरह जवाबदेह भी होना चाहिए।

2. इस संहिता का उद्देश्य ऐसे व्यापक प्रचलनों को दस्तावेज की शक्ल देनी है, जिन्हें न्यूज ब्राडकास्टर्स (समाचार प्रसारण) एसोसिएशन (संगति) (एनवीए) के सभी सदस्य प्रचलन और प्रक्रिया के रूप में स्वीकार करते हैं। इससे इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकारों को जन सेवा और एकरूपता के उच्चतम संभव मानकों को अपनाने और उन पर चलने में मदद मिलेगी।

3. समाचार चैनल (माध्यम) यह मानते हैं कि पत्रकारिता के उच्च मानकों के साथ जुड़े रहने के मामलों में उनके ऊपर खास किस्म की जिम्मेदारी है क्योंकि जनमत को सबसे ज्यादा प्रभावित करने की ताकत भी उनके ही पास है। मोटे तौर पर समाचार चैनलों को जिन सिद्धांतों पर चलना चाहिए, उनका उल्लेख यहां पर किया गया है।

4. खास तौर पर प्रसारणकर्ताओं को यह पूरी तरह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे किसी भी विवादित सार्वजनिक मामलें में दोनों में से किसी पक्ष को नुकसान या फायदा पहुंचाने की दृष्टि से समाचार का चुनाव नहीं करना चाहिए। समाचार सामग्री का चयन अथवा उनकी रचना किसी भी विशेष आस्था, विचार अथवा किसी वर्ग विशेष की इच्छा पूरी करने या उसे बढ़ावा देने के लिए नहीं होना चाहिए।