स्घां लोक सेवा आयोग दव्ारा जारी मॉडल (आदर्श) प्रश्न पत्र (Model Paper by UPSC) for Arunachal Pradesh PSC

Get unlimited access to the best preparation resource for CTET/Paper-1 : get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of CTET/Paper-1.

नमूना प्रश्न संख्या-1

’नैतिक मानवीय आचरण’ से आप क्या समझते हैं? व्यावसायिक रूप से प्रतिस्पर्धी बने रहने के साथ नैतिक होना क्यों महत्वपूर्ण हैं?

नमूना प्रश्न संख्या-2

निम्नलिखित पदों से आप क्या समझते हैं? लोक सेवा के संदर्भ में इनके विशिष्ट महत्व को रेखांकित करें-

  • बौद्धिक सत्यनिष्ठा

  • परानुभूति

  • दृढ़ता

  • सेवा की भावना

  • प्रतिबद्धता

ऐसे किन्हीं अन्य दो गुणों के विषय में बताएँ जिन्हें आप लोक सेवकों हेतु अति-महत्वपूर्ण समझते हैं। अपने उत्तर का औचित्य भी बताएँ।

नमूना प्रश्न संख्या-3

किस महान भारतीय व्यक्तित्व ने भूमिका-आदर्श के रूप में आपको सर्वाधिक प्रेरित किया है तथा ऐसी प्रेरणा से आप अपने जीवन में कितना अधिक लाभ प्राप्त कर सके हैं?

नमूना प्रश्न संख्या-4 (समस्या अध्ययन)

आप अपने दल के साथ लगभग एक साल से कार्य कर रहे हैं। आपके एक अधीनस्थ श्री ’अ’ काफी कार्यकुशल तथा मेहनती व्यक्ति हैं। वे उत्तरदायित्व लेते हैं तथा काम को पूरा करके दिखाते हैं। हालांकि, आपने यह सुना है कि श्री ’अ’ महिलाओं के प्रति हल्की टिप्पणियाँ करते हैं। श्रीमती ’एक्स’, जो श्री ’अ’ के अधीन कार्य करती हैं, आपके पास आती हैं। उन्हें देखने से प्रतीत होता है कि वे परेशान हैं। वह आपसे कहती है कि श्री ’अ’ लगातार उनकी ओर अनुचित ढंग से आगे बढ़ने का प्रयास कर रहे हैं; यहाँ तक कि उन्होंने उनसे अपने साथ रात के भोजन के लिए कहीं बाहर चलने को कहा है। वह श्री ’अ’ के विरुद्ध कार्रवई की मांग करते हुए लिखित शिकायत दर्ज कराना चाहती हैं। आप क्या करेंगे तथा क्यों?

नमूना प्रश्न संख्या-5 (समस्या अध्ययन)

आप ’एक्स के साथ पले-बढ़े हैं और वह बचपन से ही आपका सबसे अच्छा मित्र रहा है। आप दोनों ने एक-दूसरे के साथ अपने सुख दूख बांटे हैं तथा एक-दूसरे के राजदार भी रहे है। आप दोनों स्नातक अध्ययन के अंतिम वर्ष में हैं तथा अपनी आखिरी परीक्षा दे रहे हैं। परीक्षा के दौरान आप देखते हैं कि आपका दोस्त काफी अधिक नकल कर रहा है। है आप क्या करेंगे और क्यों?

नमूना प्रश्न संख्या-6 (समस्या अध्ययन)

आप एक जिलास्तरीय सरकारीं अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक के पद पर कार्य कर रहे हैं जो कि आस-पास के ग्रामीण क्षेत्रों के गरीब मरीजों के साथ ही जिले के प्रमुख शहर के स्थानीय लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करता है। अस्पताल के पास इस कार्य के सफल संचालन के लिए अच्छी आधारभूत संरचना तथा पर्याप्त उपकरण उपलब्ध है। यह अपने आवर्ती खर्चो की पूर्ति हेतु पर्याप्त धन भी प्राप्त करता है। इन सबकेे बावजूद, विशेषत: मरीजों की ओर से लगातार निम्निलिखित शिकायतें आ रही हैं-

ढवस बसेेंत्रष्कमबपउंसष्झढसपझ चिकित्सालय परिसर की रख-रखाव की व्यवस्था अत्यंत खराब है तथा स्थितियां स्वास्थ्य के प्रतिकूल है।

  • सेवाएं प्रदान करने की एवज में चिकिसालय के कर्मचारी मरीजों से बार-बार घूस की मांग करते हैं।

  • चिकित्सकों में लापरवाही की मनोवृत्ति है, जो कई बार जानलेवा साबित होती है।

  • दवाओं के भंडार से बड़ी मात्रा में दवाएँ चिकित्साकर्मियों दव्ारा बेईमानी से बाहर बेची जाती हैं।

  • चिकित्सालय के वरिष्ठ चिकित्सकों तथा स्थानीय निजी नर्सिंग होंमों (निजी चिकित्सालय) व जाँच केंद्रो के बीच एक मजबूत गठजोड़ है जिसके परिणामस्वरूप मरीजों को भ्रमित कर चिकित्सालय की सेवाएँ न देकर बाजार से महंगी दवाएँ खरीदने, चिकित्सा जाँच कराने तथा यहाँ तक कि निजी चिकित्सालयों से शल्य चिकित्सा आदि कराने को भी बाध्य किया जाता है।

  • वहाँ एक कुख्यात कर्मचारी संघ भी है जो अनुचित दबाव डालता है और प्रशासन के किसी भी सुधारात्मक कदम का विरोध करता है।

इन-परिस्थितियों पर विचार करें तथा प्रत्येक समस्या के समाधान हेतु उचित उपाय सुझाएँ।