एनसीईआरटी कक्षा 7 राजनीति विज्ञान अध्याय 9: बाजार में एक शर्ट यूट्यूब व्याख्यान हैंडआउट्स

Download PDF of This Page (Size: 331K)

Get video tutorial on: https://www.youtube.com/c/ExamraceHindi

Watch video lecture on YouTube: एनसीईआरटी कक्षा 7 राजनीति विज्ञान (NCERT Pol Sc)अध्याय 9: बाज़ार में एक शर्ट एनसीईआरटी कक्षा 7 राजनीति विज्ञान (NCERT Pol Sc)अध्याय 9: बाज़ार में एक शर्ट
Loading Video

आंध्र प्रदेश में किसान के मामले का अध्ययन- कपास की वृद्धि

  • कपास की गेंदे कपास ले जाती है|

  • गेंदे एक बार में फट नहीं जाती हैं, फसल के लिए कई दिन लगते हैं|

  • कीटनाशकों और उर्वरकों में जैसे निवेश की आवश्यकता है|

  • खेती में होने वाले खर्चे के लिए पैसे उधार लेते है|

  • ऋण की चुकौती

Image of six Trend of Cotton

Image of Six Trend of Cotton

Image of six Trend of Cotton

  • ओटाई का कारखाना: एक कारखाना जहां सूती गोल गेंद से बीज हटा दिए जाते हैं। कपास को कताई के लिए भेजे जाने के लिए धागो में दबाया जाता है।

  • व्यापारी एक शक्तिशाली व्यक्ति है - किसान ऋण पर उनके लिए निर्भर करते हैं और बीमारियों, बच्चों की पाठशाला के लिए शुल्क जैसी अन्य अनिवार्यताओं को पूरा करने के लिए

  • कोई कृषि आय के मामले में किसान जीवन निर्वाह करने के लिए पैसे उधार लेते हैं|

कपडे का बाजार - ईरोड

  • तमिलनाडु में ईरोड का द्वि साप्ताहिक कपडे का बाजार दुनिया के सबसे बड़े कपड़े बाजारों में से एक है।

  • बुनकरों द्वारा कपडे बेचने के लिए लाए जाते है|

  • कपडे के व्यापारी कपड़े खरीदते हैं|

  • व्यापारी इसे पोशाक निर्माणकर्ता या खोजकर्ता को आपूर्ति करते हैं|

  • बुनकर व्यापारियों से कच्चे धागे लेते हैं और बिजली चालित करघे से तैयार उत्पाद वापस लाते हैं|

बुनकरों के लिए लाभ:

  1. बुनकर कच्चे धागे खरीदने के लिए पैसे खर्च नहीं करते हैं|

  2. बुनकर को उत्पाद बेचने के बारे में परेशान नहीं होना पड़ता है|

  3. वे जानते हैं कि क्या बनाना है और कितना बुनाई करना है|

बुनकर की निर्भरता व्यापारिओं पर:

  1. व्यापारियों को अधिक शक्ति मिलती है|

  2. वे कपड़े के लिए आदेश देते हैं और कम कीमत का भुगतान करते हैं|

  3. बुनकर नहीं जानते कि वे किसके कपड़े बना रहे हैं|

  4. बुनकर उस मूल्य को नहीं जानते जिस पर व्यापारी कपड़ा बेचता है|

  5. व्यापारी इसे कपड़ो के कारखानों में बेचते हैं और बाजार व्यापारियों के पक्ष में होता है|

  6. बुनकर वहां निवेश करने के लिए पैसा बचाते हैं या उधार लेते हैं (1 करधे की लागत 20,000 रुपये है) - वे दिन में 12 घंटे काम करते हैं और रु। प्रति माह 3500

पारिवारिक उत्पादन पद्धति

  • व्यापारी कच्चे माल की आपूर्ति करता है और तैयार उत्पाद प्राप्त करता है|

  • भारत में प्रचलित

बुनकर की सहकारी समिति

  • बुनकर की सहकारी समितियों पर निर्भरता कम करते हैं और बुनकरों के लिए उच्च आय प्राप्त करते हैं।

  • बुनकर समूह बनाते हैं और कच्चे धागे के विक्रेता से कच्चे धागे खरीदते हैं और बुनकरों के बीच बाँट देते हैं - व्यापर भी करते हैं, व्यापारियों की भूमिका को कम कर देते हैं|

  • तमिलनाडु सरकार मुफ्त पाठशाला की पोशाक का कार्यक्रम चलाती है। सरकार इस कार्यक्रम के लिए शक्तिकरधे के बुनकर के सहकारी समितियों से कपड़े खरीदती है। सरकार हथकरघा बुनकर के सहकारी समितियों से कपड़े खरीदती है और इसे को-ऑप्टेक्स के नाम से जाने वाले गोदामों के माध्यम से बेचती है|

  • कपडे का कारखाना

  • कमीज़ बनाने के लिए कपडे का इस्तेमाल करना|

  • अमेरिका और यूरोप के व्यापारियों जो दुकानों को चलाते हैं - आपूर्तिकर्ताओं से सबसे कम कीमत मांगते हैं|

  • उत्पादन की गुणवत्ता और वितरण का समय तय किया जाता है|

  • निर्यातक इस शर्त को पूरा करने के लिए सबसे अच्छा प्रयास करता है|

  • कारखानों का निर्यात - कटौती लागत और इसलिए श्रमिकों को कम मजदूरी का भुगतान, सस्ते मूल्य पर लाभ और कपडे की आपूर्ति को कम दाम में बेचना पड़ता है|

  • श्रमिकों के साथ अधिकतम 3,000 रुपये प्रति माह के साथ उच्चतम भुगतान किया जाता है।

  • महिलाओं को धागे काटने, बटन लगाने, इस्त्री करने और पैकेजिंग के लिए सहायक के रूप में कार्यरत किया जाता है|

अमेरिका में कमीज़ का मूल्य

Image of Price of Shirt In USA

Image of Price of Shirt in USA

Image of Price of Shirt In USA

  • कपडे का निर्यातक रु। 200 में कमीज़ बेचता है|

  • कपड़ा और कच्चे माल की कीमत उन्हें रु। 70 कमीज़ पर मिलती है|

  • श्रमिक मजदूरी में उन्हें रु। 15 कमीज़ पर मिलते है|

  • कार्यालय चलाने की लागत उसे 15 कमीज़ की लागत है|

  • ख़रीदना और बेचना कई बिंदुओं पर होता है - जब तक यह बड़ेबाज़ार तक नहीं पहुंच जाता|

  • विदेशी व्यापारि भारी मुनाफा कमाते है|

  • कपडे का निर्यात कारखाना अपनी दैनिक जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त हो जाता है|

  • बुनकर को उत्पाद के लिए उचित मूल्य नहीं मिलता है|

  • बाजार में समान रूप से सभी लाभ नहीं उठाते हैं|

  • अमीर और शक्तिशाली अधिकतम कमाई प्राप्त करते हैं - जिनके पास धन, दुकानें और भूमि अधिग्रहण होती हैं|

  • निर्भरता के कारण गरीब का शोषण किया जाता है|

Master policitical science for your exam with our detailed and comprehensive study material