नवीकरणीय ऊर्जा क्षमतायें जलविद्युत उत्पादन से अधिक हुई (Renewable Energy Capacity Exceeded Hydroelectric Production – Environment)

Doorsteptutor material for CTET-Hindi/Paper-1 is prepared by world's top subject experts: get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of CTET-Hindi/Paper-1.

• नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र ने पहली बार जल विद्युत उत्पादन को पार किया है।

• केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण के आंकड़ों के अनुसार, नवीकरणीय ऊर्जा की समग्र क्षमता बढ़ कर 42,849.38 मेगावाट हो गई है। 30 अप्रैल, 2016 के आंकड़ों के अनुसार, देश की 3 लाख मेगावाट से कुछ अधिक की स्थापित क्षमता में 42,783.42 मेगावाट की क्षमता जल विद्युत क्षेत्र की है। सौर और पवन ऊर्जा के क्षेत्र में नवीकरणीय ऊर्जा निवेश क्रेंद की मजबूत नीति और पिछले वर्षों में निजी क्षेत्र के आरंभिक निवेश से लाभान्वित हुआ हैं।

• इसके विपरीत, जल विद्युत को लंबी अवधि से वित्तपोषण की अनुपलब्धता, राज्य सरकार को नि: शुल्क दी जाने वाली रॉयल्टी (राजवंशी) विद्युत (12 प्रतिशत से 36 प्रतिशत तक) दव्ारा आरोपित लागत और निजी क्षेत्र के लिए सीमित अवसर सहित कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा है।

• वर्ष 2022 तक 100 गीगावॉट सौर ऊर्जा और 60 गीगावॉट पवन ऊर्जा सहित 175 गीगावॉट नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता के विकास की सरकार की महत्वाकांक्षी योजना है। इसके लिए अगले सात वर्षों के दौरान लगभग $ 150 बिलियन डॉलर के निवेश की आवश्यकता पड़ सकती है।

Developed by: