एनसीईआरटी कक्षा 8 विज्ञान अध्याय 3: कृत्रिम रेशम और प्लास्टिक यूट्यूब व्याख्यान हैंडआउट्स for Tripura PSC Exam

Get unlimited access to the best preparation resource for UGC : Get detailed illustrated notes covering entire syllabus: point-by-point for high retention.

Get video tutorial on: Examrace Hindi Channel at YouTube

एनसीईआरटी कक्षा 8 विज्ञान अध्याय 3: सिंथेटिक फाइबर और प्लास्टिक
  • कपड़े रेशो में से बने होते हैं – कृत्रिम और क़ुदरती
  • कुदरती रेशम – सूती कपड़ा (कोशिकारस) , ऊन और रेशम
  • कृत्रिम, बनावटी या मानव निर्मित रेशम
  • कृत्रिम रेशममें एक साथ आपसमे जुडी हुई छोटी इकाइयोकि सांकल होती है| – प्रत्येक इकाई एक रासायनिक पदार्थ होती है|
  • छोटी इकाइयां बहुलक बनाने के लिए आपसमे मिल जाती है| ( “पॉली” का अर्थ है कई और “मेर” का अर्थ भाग / इकाई) – इसमें कई दोहराने वाली इकाइयां होती हैं|

कृत्रिम रेशमके प्रकार

रेयान/ कृत्रिम रेशम

  • लकडीकी लुगदी मे से रासायनिक प्रक्रिया द्वारा प्राप्त होता है|
  • रंगा जा सकता है|
  • चादरे बनाने के लिए सूती कपडेके साथ मिलाया जाता है|
  • गालीचा बनानेके लिए उन के साथ मिलाया जाता है|

नायलॉन

  • 1931 में – किसी भी क़ुदरती कच्चे माल के बिना बनाया गया था|
  • कोयला, पानी, और हवा को तैयार किया जाता है ।
  • यह पहला पूरी तरहसे कृत्रिम रेशम है|
  • मजबूत, लचीला और हलका होता है|
  • चमकदार और धोने में आसान है|
  • मोजे, रस्सी, तंबू, टूथब्रश, गाड़ी की सीटें बनाने में काम आता है|
  • पैरासूट और चट्टान पर चढ़ाई करने किये रस्सी बनाने में काम आता है |
  • स्टील के तार से नायलॉन मजबूत होता है|

पॉलिएस्टर

  • जुरियोवाला नहीं होता है, कुरकुरा और धोने में आसान रहता है|
  • पोशाक सामग्री के लिए उपयोग किया जाता है|
  • उसमे एक टेरेलीन प्रचलित है – अच्छे रेशम में से तैयार किया जाता है|
  • PET (पॉलीथीन टेरिफ्थेलैट) – बोतलें, बर्तन, फिल्मों और तारों को बनाने के लिए पॉलिएस्टर प्रचलित है|
  • रासायनिक इकाइयोंको फिरसे दोहराया जाता है उसे “एस्टर” के नामसे जाना जाता है – एस्टर ऐसे रसायन होते हैं जिनमें फल जैसी दुर्गन्ध आती है।
  • पॉलीकॉट = पॉलिएस्टर + सूती कपड़ा
  • पॉलीवूल = पॉलिएस्टर + ऊन
  • टेरीकॉट = टेरेलीन + सूती कपड़ा

ऐक्रेलिक

  • ज्यादा उन जैसे दीखता है|
  • सस्ते और रंगों की विविधता में उपलब्ध होते है|
  • अधिक टिकाऊ और किफायती
  • यह गर्मीमे पिघल जाते है और शरीर पर चिपक जाते है – इसलिए यह खतरनाक है (इन्हे रसोईघर और प्रयोगशाला में नहीं पहनना चाहिए)
  • सस्ते, हल्के वजन के कंबल जो घर पर धो सकते हैं|

पेट्रोकेमिकल्स: पेट्रोलियम मूल की कच्ची सामग्री का उपयोग करके सभी कृत्रिम रेशम कई प्रक्रियाओं द्वारा तैयार किए जाते हैं|

कृत्रिम रेशम के लक्षण

  • जल्दी सूखें (छाता)
  • कम महंगा
  • आसानी से उपलब्ध
  • संभालने में आसान

प्लास्टिक

  • पॉलिमर कृत्रिम रेशमके जैसा होता है|
  • इसकी व्यवस्थामे रेखाए या विरोधमे जुडी होती है|
  • विभिन्न माप और आकार में उपलब्ध है|
  • इसे आसानी से मोड़ा जा सकता है (किसी भी रूप में आकार दिया जा सकता है)
  • चादर या तारों में घुमाया जा सकता है, पुन: उपयोग, रंगीन, पिघला हुआ, लुढ़काया जा सकता है|
  • कुछ प्लास्टिक मोड जाते है जबकि दूसरे कोझुकने पर तोडना पड़ता है|
  • थर्माप्लास्टिक – गर्म पानी में डालने और मोड़ने पर खराब हो जाता है; पॉलिथिन और PVC – खिलौने और कंधी बनाने के लिए काम आता है|
  • थर्मोसेटिंग प्लास्टिक – एक बार आकारमे ढालने के बाद गर्मी द्वारा नरम नहीं किया जा सकता – बैकेलाइट और मेलामाइन
  • बैकेलाइट – गर्मी और बिजलीका संवाहक – विद्युत स्विच, हत्था और बर्तन
  • मेलामाइन – कई गुणों का, आग को रोकता है, गर्मी सहन करता है – फर्श टाइल्स, बरतन और कपड़े जो आग को रोकते है|

प्लास्टिक के फायदे

  • हल्का वजन
  • कम कीमत
  • अच्छी ताकत
  • संभालने में आसान
  • ज्वालक
  • गैर प्रतिक्रियाशील (पानी और हवा के साथ प्रतिक्रिया नहीं देता है) , बहुत पुराना या खराब नहीं होता है|
  • मजबूत
  • उद्योग और घरेलू सामग्री में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है|
  • निर्बल संवाहक (बिजली के तारों, स्क्रू ड्राइवरों के हैंडल पर कवर लगाने में उपयोग होता है|)
  • स्वास्थ्य देखभाल में उपयोगी – दवाए, ग्लोव्स, सिरिंगके पॅकिंगमे और चिकित्सा उपकरण बनाने में|
  • माइक्रोवेव ओवन्स के लिए कुकवेयर बनाने में|
  • टेफ़लोन – प्लास्टिक जिस पर तेल और पानी चिपकता नहीं है| (कुकवेयर पे न चिपकनेवाला आवरण)
  • अग्निरोधी प्लास्टिक – आग बुजानेवाले की वर्दीमे आग प्रतिरोधक आवरण लगा होता है |

प्लास्टिक का निराकरण

  • यह एक बड़ी समस्या है|
  • बाइओडिग्रेड्डबल – क़ुदरती प्रक्रिया से विघटित होता है (जीवाणु पर कार्य)
  • गैर-जैविक अवक्रमित – क़ुदरती प्रक्रिया से विघटित नहीं होता है|
  • विघटन करने के लिए सालों लगते हैं और इसलिए यह पर्यावरण के अनुकूल नहीं है |
  • जलन वायु प्रदूषण के कारण वातावरण में जहरीले धुएं को जारी करता है|
  • विकल्प – सूती कपड़ा और जूट बैग
  • बायोडिग्रेडेबल और गैर-बायोडिग्रेडेबल के लिए अलग बेकार संग्रह करना|
  • थर्माप्लास्टिक को पुनर्नवीनीकरण किया जा सकता है – रंग करने वाले दलालोको जोड़ा जाता है|
  • प्लास्टिक जानवरों की श्वसन प्रणाली में जानेसे उनका दम घुटता है / जठर का आवरण खराब हो जाता है और उनकी मौतका कारन बनता है|
  • प्लास्टिक की थेलिया नलियोंको ढँक देती है| – इसलिए उन्हें यहाँ वहां नहीं फेकना चाहिए | (स्वचछ भारत)

5 R सिद्धांत

  • कम करना
  • पुन: उपयोग
  • पुनरावृत्ति करना
  • वापस ठीक करना
  • अस्वीकार करना

Developed by: