Why is India՚s Foreign Exchange Reserves Rising, What Does It Mean for the Economy? YouTube Lecture Handouts

Get unlimited access to the best preparation resource for CTET-Hindi/Paper-1 : get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of CTET-Hindi/Paper-1.

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार क्यों बढ़ रहा है,अर्थव्यवस्था के लिए इसका क्या मतलब है?Forex |UPSC
  • 16 जुलाई को समाप्त सप्ताह में, भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 835 मिलियन डॉलर बढ़कर 612.73 बिलियन डॉलर के रिकॉर्ड उच्च मार्जिन को छू गया। 9 जुलाई को समाप्त सप्ताह में भंडार 1.883 अरब डॉलर से बढ़कर 611.895 अरब डॉलर हो गया था। हाइलाइट विदेशी मुद्रा भंडार में वृद्धि विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियों में वृद्धि के कारण हुई
  • विदेशी मुद्रा भंडार सोने, एसडीआर (आईएमएफ के विशेष आहरण अधिकार) और विदेशी मुद्रा संपत्ति (पूंजी बाजार में पूंजी प्रवाह, एफडीआई और बाहरी वाणिज्यिक उधार) के रूप में बाहरी संपत्ति हैं जो भारत द्वारा संचित और भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा नियंत्रित हैं।
  • काकतीय वंश के दौरान जब मार्को पोलो भारत आए थे तो उन्‍होंने इसे तमाम मंदिरों में सबसे चमकता तारा कहा था। इस मंदिर में शिव, श्री हर‍ि और सूर्य देवता की मूर्तिया स्‍थापित हैं। इस मंदिर का विशाल प्रवेश द्वार, हजार खंभे और मनमोहक नक्‍काशी आकर्षण का केंद्र हैं।
  • विदेशी मुद्रा भंडार में वृद्धि का प्रमुख कारण विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों में भारतीय शेयरों और प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) में निवेश में वृद्धि है। विदेशी निवेशकों ने कई भारतीय कंपनियों में हिस्सेदारी हासिल की है
  • बढ़ते विदेशी मुद्रा भंडार भारत के बाहरी और आंतरिक वित्तीय मुद्दों के प्रबंधन में सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक को बहुत आराम देते हैं, ऐसे समय में जब आर्थिक विकास 2020 - 21 में 1.5 प्रतिशत तक अनुबंधित होता है। यह आर्थिक मोर्चे पर किसी भी संकट की स्थिति में एक बड़ा तकिया है और एक साल के लिए देश के आयात बिल को कवर करने के लिए पर्याप्त है।

Manishika