ध्रुवीय भालू के आवास की क्षति (Damage To The House Of Polar Bears – Environments And Ecology)

Download PDF of This Page (Size: 184K)

कारण

• ग्लोबल (विश्वव्यापी) वार्मिंग (थोड़ा गरम करने वाला) से ध्रवीय भालू के ग्रीष्मकालीन बर्फीलें सागरीय आवासों में कमी हो रही हैं।

• ध्रवीय भालू, सागरीय बर्फ का प्रयोग भोजन प्राप्त करने, संसर्ग और प्रसव के लिए करते हैं।

• गर्मियों में जब हिमावरण कम हो जाता है तो ध्रुवीय भालू भूमि पर आने हेतु विवश हो जाते हैं।

• सागरीय बर्फ के क्षरण की स्थिति में भूमि-आधारित भोजन ध्रुवीय भालू के अनुकूलन की प्रक्रिया में अधिक सहायक नहीं हो सकेगा।

ध्रुवीय भालू की विशेषताएँ

• विशाल आकार वाले ये भालू 350-700 किग्रा तक होते हैं।

• स्थिति: IUCN रेड डेटा बुक (लाल, आधार सामग्री, किताब) में ये सुभेद्य श्रेणी में वर्गीकृत हैं।

वासस्थल: ये काफी हद तक उत्तरी आर्कटिक परिधि के अंतर्गत पाए जाते हैं। इसमें आर्कटिक महासागर व आस-पास के समुद्र और भूमि सन्निहित है।

• ध्रुवीय भालू बर्फीले समुद्री किनारों से अपने पसंदीदा भोजना यावी सीलों का शिकार करते हैं और जब समुद्री हिम नहीं होती है तो प्राय: अपने शरीर में संरक्षित वसा पर जीवित रहते हैं।

• ध्रुवीय भालू भूमि पर पाए जाने वाले विश्व के सबसे बड़े मांसाहारी जीव हैं। केवल दक्षिणी- पश्चिमी अलास्का के कोडियाक भूरे भालू ही इनके जितने विशाल होते हैं।

• ध्रुवीय भालू आर्कटिक क्षेत्र में खाद्य श्रृंखला के शीर्ष पर विद्यमान हैं। इनका मुख्य आहार बर्फ पर निर्भर रहने वाली सीलों की वसा है।

• द (यह) वर्ल्ड (विश्व) कंजरवेशन (संरक्षण) यूनियन (संयोग) (IUCN) का अनुमान है कि विश्व में 20 से 25 हजार ध्रुवीय भालू पाये जाते हैं।

Get unlimited access to the best preparation resource for competitive exams - get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of your exam.

Developed by: