माइक्रोप्लास्टिक (अतिसूक्ष्म नवाने योग्य) /माइक्रोबीड्‌स (अतिसूक्ष्मटुकड़ा) ; डपबतव च्सेंजपबध् डपबतवइमंके (Micro Plastic/Micro Beads – Environment and Economy)

Glide to success with Doorsteptutor material for CTET-Hindi/Paper-1 : get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of CTET-Hindi/Paper-1.

• माइक्रोप्लास्टिक या माइक्रोबीड्‌स प्लास्टिक के अंश या रेशे हैं जो बहुत छोटे होते हैं। इनका आकार सामान्यत: 1 मि. मी. से कम होता है।

• उनके विविध प्रकार के प्रयोग होते हैं जिनमें विशेष रूप से टूथपेस्ट, कपड़े, बॉडी (शरीर) क्रीम (मलाई) जैसे व्यक्तिगत देखभाल उत्पाद एवं औद्योगिक उपयोग होते हैं।

• उनमें सरलतावपूर्वक फैलने की क्षमता होती है और वे उत्पाद को रेशमी बुनावट और रंग प्रदान करते हैं। इस प्रकार वे प्रसाधन सामग्री उत्पादों को दृश्य प्रभाव प्रदान करते हैं।

माइक्रोप्लास्टिक के साथ समस्याएँ

• वे गैर-जैवनिम्नीकरण होते हैं। वे सीवर (पृथक होना) से बहकर सागरों और महासागरों में पहुँच जाते हैं और पर्यावरण में प्लास्टिक की समस्या में इजाफा करते हैं।

• वे जल प्रदूषण में वृद्धि करते हैं और उनमें जलीय पारिस्थितिकी तंत्र में व्यवधान उत्पन्न करने की क्षमता होती है।

• एक बार जल निकायों में प्रवेश करने के उपरान्त वे संचित हो जाते हैं और अन्य प्रदूषकों के लिए वाहक के रूप में कार्य करते हैं। वे खाद्य श्रृंखला में कैंसर कारक रासायनिक यौगिकों का वहन करते हैं।

• अपने छोटे आकार के कारण वे अपशिष्ट जल उपचार निस्पंदन प्रणाली से भी पार हो जाते हैं।