लैंगिक असमानता सूचकांक (जीआईआई) -यूएनडीपी (Gender Inequality Index – UNDP – Government Plans)

Download PDF of This Page (Size: 174K)

सारांश

• जीआईआई संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) दव्ारा सन 2010 की मानव विकास रिपोर्ट (विवरण) की 20 वीं वर्षगांठ पर प्रकाशित संस्करण में जारी किया गया।

• लैंगिक असमानता सूचकांक (जीआईई) लैंगिक अंतर डिसपैरटि (असमानता/अत्यधिक विभन्निता के मापन का सूचकांक है।

• जीआईआई एक संयुक्त मापक है जो लिंग असमानता की वजह से देश के भीतर हिल की जा सकने वाली उपलब्धियों की हानि को दर्शाता है।

• सूचकांक के परिकलन के लिए तीन आयामों का उपयोग किया गया है:

• महिलाओं का प्रजनन स्वास्थ्य (मातृ मृत्यु दर +किशारियों में प्रजनन दर)

• सशक्तिकरण (महिलाओं दव्ारा अधिग्रहित संसदीय सीटों की संख्या + माध्यमिक शिक्षा प्राप्त 25 वर्ष से अधिक आयु वाली महिलाओं की जनसंख्या के प्रतिशत पर आधारित)

• आर्थिक स्थिति (श्रम बल में भागीदारी)

• पिछले संकेतकों-लैंगिक विकास सूचकांक (जीडीआई) और लैंगिक सशक्तिकरण उपाय (जीईएम) की कमियों को दूर करने के लिए निर्मित

• पूरे दक्षिण एशिया में, केवल युद्ध से प्रभावित अफगानिस्तान की भारत की तुलना में खराब रैंकिंग (श्रेणी) है।

• भारत जीआईआई में 155 देशों में से 130वें स्थान पर है।

• भारत में विधायिका में महज 12.2 प्रतिशत महिला सदस्य है जबकि महिला अधिकारों के उल्लंघन के मामले में शीर्ष पर स्थित देश अफगानिस्तान में यह प्रतिशत 27.6 प्रतिशत है।

• भारत में श्रम बल में भागीदारी की दर महिलाओं के लिए महज 27 प्रतिशत है जबकि पुरुषों के लिए 79.9 प्रतिशत हैं।

Doorsteptutor material for competitive exams is prepared by worlds top subject experts- get questions, notes, tests, video lectures and more- for all subjects of your exam.

Developed by: