थाणे क्रीक फ्लेमिंगो (राजहंस) अभयारण्य (Thane Creek Flamingo Sanctuary – Environment And Ecology)

Download PDF of This Page (Size: 149K)

§ महाराष्ट्र सरकार दव्ारा वन्यजीव संरक्षण अधिनियम, 1972 के अनुच्छेद 18 के अंतर्गत थाणे क्रीक को फ्लेमिंगो अभ्यारण्य घोषित किया गया है।

§ यह मालबन के बाद महाराष्ट्र का दूसरा समुद्री अभ्यारण्य है।

§ इस अभ्यारण्य में नंवबर माह तक लगभग 30,000 पक्षी आ जाते हैं जो मई तक यहाँ रूकते हैं। मई के बाद प्रजनन हेतु ये पक्षी समुह गुजरात के भुज क्षेत्र में प्रवास कर जाते हैं।

§ इनमें लगभग 90 प्रतिशत छोटे फ्लेमिंगो और शेष ग्रेटर (बड़ा) फ्लेमिंगों (राजहंस) होते हैं।

§ अन्य प्रजातियों के पक्षी: लगभग 200 अन्य प्रजातियों के पक्षी भी आते हैं जिसमें वैश्विक स्तर पर संकटग्रस्त प्रजातियों जैसे कि ग्रेटर (बड़ा) स्पॉटेड (स्थान) ईगल (बाज) भी शामिल हैं।

Get unlimited access to the best preparation resource for IAS - Get detailed illustrated notes covering entire syllabus: point-by-point for high retention.

Developed by: