Indian Geography MCQs in Hindi Part 74 with Answers

Glide to success with Doorsteptutor material for JNU : fully solved questions with step-by-step explanation- practice your way to success.

Download PDF of This Page (Size: 120K)

9 निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

ढवस बसेेंत्रष्कमबपउंसष्झढसपझ क्षुद्र सरिता का निर्माण प्रवाहित जल के घर्षण के कारण अधिक मात्रा में लाए गए तलछटों के कारण होता है।

अवनालिकाएँ गहरी, चौड़ी तथा लंबाई में विस्तृत होकर एक-दूसरे में समाहित होकर घाटियों का जाल बनाती हैं।

उपर्युक्त कथनों में से कौन- सा/से सत्य है/हैं।

अ) केवल 1

ब) केवल 2

स) 1 और 2 दोनों

द) न तो 1 और न ही 2

उत्तर: (स)

10 नदियों दव्ारा अपरदन के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:

ढवस बसेेंत्रष्कमबपउंसष्झढसपझ प्रारंभिक अवस्था में नदियों दव्ारा अधोमुखी कटाव अधिक होता है, जिससे जलप्रपात व सोपान जलप्रपात का निर्माण होता है।

मध्यावस्था में नदियाँ अपने तल में धीमा कटाव करती हैं और घाटियों में पार्श्व अपरदन अधिक होता है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन- सा/से सत्य है/हैं।

अ) केवल 1

ब) केवल 2

स) 1 और 2 दोनों

द) न तो 1 और न ही 2

उत्तर: (स)

1 छोटी सहायक नदियाँ कम होती हैं और ढाल मंद होता है। नदियाँ स्वतंत्र रूप से बाढ़ के मैदानों बहती हुई नदी-विसर्प, प्राकृतिक तटबंध, गोखुर झील आदि बनाती हैं। विभाजक विस्तृत तथा समतल होते हैं, जिनमें झील दलदल पाए जाते हैं। अधिकतर भू-दृश्य समुद्र तल के बराबर या थोड़े ऊँचे होते हैं। उपर्युक्त विशेषताएँ नदी की किस अवस्था से संबंधित हैं?

अ) शैशवावस्था

ब) युवावस्था

स) प्रौढ़ावस्था

द) वृद्धावस्था

उत्तर: (द)

Developed by: